--Advertisement--

बाॅम्बे HC का फैसला : टैटू की वजह से नौकरी देने से इनकार नहीं कर सकती CISF

याचिकाकर्ता की बांह पर टैटू होने के कारण केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने उसे नौकरी देने से मना कर दिया था।

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 01:37 PM IST
बाॅम्बे हाईकोर्ट ने सीआईएसएफ द्वारा टैटू की वजह से रिजेक्ट किए गए श्रीधर पखारे को राहत दी है। (फाइल) बाॅम्बे हाईकोर्ट ने सीआईएसएफ द्वारा टैटू की वजह से रिजेक्ट किए गए श्रीधर पखारे को राहत दी है। (फाइल)

मुंबई। हाईकोर्ट ने एक शख्स के नौकरी के मामले में कहा कि सीआईएसएफ टैटू के कारण जॉब देने से मना नहीं कर सकता। याचिकाकर्ता की बांह पर टैटू होने के कारण केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने उसे नौकरी देने से मना कर दिया था। कोर्ट ने क्या कहा.....

-सोलापुर के श्रीधर पखारे नामक शख्स ने सीआईएसएफ में कांस्टेबल सह चालक के पद के लिए आवेदन किया था।
-पखारे का सिलेक्शन हुआ लेकिन मेडिकल जांच में उसके शरीर पर टैटू होने से उसे ज्वाइन करने से मना किया गया।
-इसके बाद पखारे ने मुंबई हाईकोर्ट ने सीआईएसएफ के फैसल के खिलाफ याचिका दायर की इसकी -सुनवाई गुरुवार को हुई।


नियमों में संशोधन करें CISF

-जज आर एम बोर्डे और राजेश केतकर की खंडपीठ ने कहा कि टैटू याचिकाकर्ता के अधिकारिक कर्तव्यों में हस्तक्षेप नहीं करेगा और जैसा कि वह अन्य सभी पात्रता मानदंडों को पूरा करता है।
सीआईएसएफ अधिकारियों को उसके लिए अपने नियमों में संसोधन करना चाहिए।
-टैटू को एक धार्मिक प्रतीक भी बताते हुए पीठ ने कहा कि याचिकाकर्ता श्रीधर पखारे की धार्मिक भावनाओं का सम्मान किया जाना चाहिए।

हाईकोर्ट ने सीएआईएसएफ को अपने नियमों संशोधन करने के लिए कहा है। (फाइल) हाईकोर्ट ने सीएआईएसएफ को अपने नियमों संशोधन करने के लिए कहा है। (फाइल)
X
बाॅम्बे हाईकोर्ट ने सीआईएसएफ द्वारा टैटू की वजह से रिजेक्ट किए गए श्रीधर पखारे को राहत दी है। (फाइल)बाॅम्बे हाईकोर्ट ने सीआईएसएफ द्वारा टैटू की वजह से रिजेक्ट किए गए श्रीधर पखारे को राहत दी है। (फाइल)
हाईकोर्ट ने सीएआईएसएफ को अपने नियमों संशोधन करने के लिए कहा है। (फाइल)हाईकोर्ट ने सीएआईएसएफ को अपने नियमों संशोधन करने के लिए कहा है। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..