Hindi News »Maharashtra »Pune »News» This IT Engineer From Mumbai Create App To Save Street Animals.

अब सड़क पर नहीं होगी किसी जानवर की मौत, इन्होने खोजा ये यूनिक तरीका

इन जानवरों तक डॉक्टर्स पहुंचाने के लिए मुंबई के एक आईटी ग्रैजुएट ने अमेजिंग मोबाइल ऐप तैयार किया है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 12, 2017, 05:07 PM IST

मुंबई. शहरों में एक्सीडेंट का शिकार हुए ज्यादातर स्ट्रीट एनीमल्स की डेथ सही समय पर मेडिकल हेल्प नहीं पहुंचने की वजह से होती है। इन जानवरों तक डॉक्टर्स पहुंचाने के लिए मुंबई के एक आईटी ग्रैजुएट ने अमेजिंग मोबाइल ऐप तैयार किया है।कैसे काम करता है यह ऐप...

- मुंबई के माटुंगा के रहने वाले 26 वर्षीय यश सेठ ने घायल, बंधक और बीमार जानवरों को बचाने के लिए 'Let it Wag' नाम से मोबाइल ऐप तैयार किया है।
- इस ऐप में एनिमल लवर्स, वेटनरी डॉक्टर्स और जानवरों के हितों के लिए काम करने वाली एनजीओ के लोग बतौर मेंबर्स जुड़े हुए हैं।
- इसके जरिए आप कहीं से इसमें जुड़े मेंबर्स को बीमार और घायल जानवरों की जानकारी, रियल टाइम लोकेशन और फोटोज के साथ भेज सकते हैं।
- जानकारी मिलते ही सबसे पास के मेंबर के पास अलर्ट जाएगा और वह हेल्प के लिए पहुंच जाएगा। इस तरह से सही समय पर एक बेजुबान की जान बचाई जा सकती है।

इस ऐप के जरिए जानवर को गोद ले सकते हैं
- 'Let it Wag' यह फिलहाल एंड्राइड ऐप है। इस गूगल प्ले स्टोर पर फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है।
- अगर आप सही में एनिमल लवर हैं तो इस ऐप के सहारे आप एक बेजुबान को गोद भी ले सकते हैं।
- कुछ ही महीने में यह ऐप बहुत पॉपुलर हो गया है। गूगल प्ले स्टोर पर इसे 4.8 रेटिंग दी गई है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: ab sड़k par nahi hogai kisi janwar ki maut, inhonne khojaa ye yunik trika
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×