Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Tiger In Aurangabad Zoo Play With Football Catch Eyeballs.

फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया

फुटबाल से खेलने वाले इस बाघ को देखने के लिए हर दिन सैंकड़ों की भीड़ चिड़ियाघर में आ रही है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 28, 2017, 10:50 AM IST

    • औरंगाबाद चिड़ियाघर के टाइगर इन दिनों फुटबॉल से खेल रहे हैं।

      औरंगाबाद. 'सिद्धार्थ गार्डन एंड जू' में रहने वाले टाइगर्स अपनी एक खास वजह से इन दिनों सुर्खियों में बने हुए हैं। डॉग की तरह ये फुटबॉल से खेलते हैं। जू में रहने वाले टाइगर्स को एक्टिव बनाने के लिए एक बच्चे ने यह आइडिया जू एडमिनिस्ट्रेशन को दिया था, जिसे मान लिया गया। फुटबॉल से खेलने वाले इन बाघ को देखने के लिए हर दिन सैकड़ों की भीड़ चिड़ियाघर में आ रही है। ऐसे आया टाइगर्स से फुटबॉल खिलवाने का आइडिया....

      - औरंगाबाद के रहने वाले 12 साल के पृथ्वीराज पाटिल कुछ दिनों पहले 'सिद्धार्थ गार्डन एंड जू' में अपनी फैमिली के साथ घूमने गए थे। चिड़ियाघर में घूमने के दौरान उन्हें अचानक एक बाड़े में कुछ बाघ बैठे हुए देखे। पृथ्वीराज​ काफी देर तक उन्हें देखते रहे।
      - बाड़े में बैठे बाघ सिर्फ खाना खा रहे थे और थोड़ा टहल कर बैठ जाते थे। पृथ्वीराज को लगा कि जू के सभी बाघ सुस्त हो गए हैं और उन्हें एक्टिव बनाने की जरूरत है।
      - इसके बाद उन्हें अपनी फुटबॉल टाइगर्स के बाड़े में फेंक दी। फुटबॉल को देखते ही बाड़े में मौजूद बाघ एक्टिव हो गए और उसके साथ खेलने लगे। वे काफी देर तक फुटबॉल से खेलते रहे।
      - यहीं से पृथ्वीराज को बाघ और अन्य बड़े जानवरों को फुटबॉल से खेलने के लिए प्रेरित करने का आइडिया आया।

      जिला प्रशासन ने अलग से जारी किया बजट

      - इसके बाद पृथ्वीराज​ जू एडमिनिस्ट्रेशन से जुड़े लोगों से मिले और उन्हें जानवरों को एक्टिव बनाने के लिए यह आइडिया दिया।
      - शुरू में जू प्रशासन से जुड़े लोगों को पृथ्वीराज की बात पर यकीन नहीं हुआ, लेकिन जब उन्होंने बाघ के बाड़े में जाकर देखा तो बाघ लगातार फुटबॉल से खेल रहे थे।
      - इसके बाद औरंगाबाद महानगरपालिका के सामने जानवरों को फुटबॉल खिलवाने का प्रपोजल रखा गया।
      - इस बात की सच्चाई परखने के लिए खुद मेयर नंदू घोड़ीले चिड़ियाघर पहुंचे और उन्होंने बाघों को फुटबॉल से खेलते हुए देखा और उन्होंने जानवरों के लिए फुटबॉल खरीदने के प्रपोजल को मंजूरी प्रदान कर दी।
      - अब हर दिन चिड़ियाघर के कर्मचारी एक फुटबॉल बाघ के बाड़े में फेंकते हैं और टाइगर्स घंटों उससे खेलते रहते हैं।

      आगे की स्लाइड्स में देखिए फुटबॉल से खेलने वाले बाघ की कुछ और फोटोज ...

    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      जू के कर्मचारी हर दिन एक फुटबॉल टाइगर्स के सामने फेंकते हैं।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      जू के बाघ फुटबॉल से घंटों खेलते हैं।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      टाइगर्स को एक्टिव बनाने के लिए यह प्रयोग किया जा रहा है।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      टाइगर्स के अलावा अन्य जानवरों को भी फुटबॉल से खेलने का आइडिया दिया गया है।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      फुटबॉल से खेलने के बाद अब टाइगर्स काफी एक्टिव नजर आ रहे हैं।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      इस बच्चे ने दिया टाइगर्स को फुटबॉल से खिलवाने का आइडिया।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      औरंगाबाद के मेयर ने भी इसके काम को सराहा है।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      टाइगर्स के लिए फुटबॉल मुहैया करवाने के लिए निगम ने अलग से बजट तय किया है।
    • फुटबाल से खेलता है यह टाइगर, 12 साल के बाचे ने दिया था ये आइडिया
      +9और स्लाइड देखें
      जू के टाइगर घंटों फुटबॉल से खेलते हैं।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Tiger In Aurangabad Zoo Play With Football Catch Eyeballs.
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×