Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Congress Leader Guruduas Kamat Exclusive Talk With Dainik Bhaskar.

मैंने राजनीतिक संन्यास लेने की बात कभी नहीं कही थी : गुरुदास कामत

इस प्रकार का महत्वपूर्ण बयान पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री एवं कांग्रेस के पूर्व महासचिव गुरुदास कामत ने दिया है।

Vinod Yadav | Last Modified - Nov 13, 2017, 10:22 PM IST

  • मैंने राजनीतिक संन्यास लेने की बात कभी नहीं कही थी : गुरुदास कामत
    +1और स्लाइड देखें
    कांग्रेस नेता गुरुदास कामत।
    मुंबई. "मैंने राजनीतिक संन्यास लेने की बात कभी नहीं कही थी। मैंने तब कहा था कि मैं अपना महासचिव पद को छोड़ता हूं और आगे मुझे किसी भी पोस्ट को लेने में अभी दिलचस्पी नहीं है। और फिलहाल मैं किसी भी पद पर भी नहीं आना चाहता हूं।" इस प्रकार का महत्वपूर्ण बयान पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री एवं कांग्रेस के पूर्व महासचिव गुरुदास कामत ने दिया है। मेरे खिलाफ झूठी बातें फैला रहे हैं लोग...
    - दैनिक भास्कर से विशेष बातचीत करते हुए कामत ने कहा,"जिन लोगों को मेरी सक्रियता से खतरा महसूस होने लगा है या जिनके पेट में दर्द हो रहा है। वे मेरे खिलाफ झूठी बातें फैला रहे हैं। इस तरह की गलत खबरें पत्रकारों को देने वाले पार्टी के ही तीन नेता हो सकते हैं। इस प्रकार का मुझे शक है।"
    - कामत ने आगे कहा,"मैं फेरीवालों और उत्तर भारतीयों के लिए लड़ रहा हूं। मैंने राज ठाकरे को खुली चुनौती दी, तो मेरे खिलाफ सोशल मीडिया में गंदे शब्दों का इस्तेमाल किया गया।"
    - पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा,"मैंने जब मंत्रिपद से इस्तीफा दिया था। उसके बाद 15 दिनों तक अपने संसदीय क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान शुरू किया था। इसके बाद जब मई महीने में पार्टी के महासचिव पद से इस्तीफा दिया, तो उसके बाद से लगातार हर शनिवार-रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों से मिलता रहा हूं। विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करता हूं। इस बात का सबूत मेरा फेसबुक और ट्विटर का एकाउंट है। जिस पर तारीख और दिनवार पूरी जानकारी है। जिसमें किसी भी प्रकार का बदलाव किया जाना संभव नहीं है।"
    - आगे कामत ने कहा,"मैंने तब कहा था कि मैं कोई पद नहीं चाहता, परंतु कांग्रेस का सक्रिय सदस्य बनकर काम करता रहूंगा।"
    मैंने सक्रिय राजनीति नहीं छोड़ी है
    - राजनीति से दूरी के सवाल पर कामत ने कहा,"मैंने जब कांग्रेस के महासचिव पद से इस्तीफा दिया था, तब कहा था कि मैं कोई पद नहीं चाहता हूं और कांग्रेस पार्टी का सक्रिय सदस्य बनकर काम करता रहूंगा। जो मैं आज तक करते आ रहा हूं। तो इसका मतलब यह नहीं है कि मैंने सक्रिय राजनीति से सन्याय ले लिया है। कांग्रेस पार्टी का सक्रिय कार्यकर्ता बनकर काम करता रहूंगा, मेरे इस बयान का साफ मतलब है कि मैं सक्रिय राजनीति में हूं। मुझे सिर्फ पोस्ट नहीं चाहिए। यह मैंने तब कहा था। और यह सब बातें मैंने अपनी पार्टी के आलाकमान को पत्र लिखकर कही थी।"
    राहुल जी ने मुझे मेरे जन्मदिन पर बहुत बढ़िया संदेश भेजा था
    - पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के पूर्व महासचिव गुरुदास कामत ने कहा, "कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मेरी नहीं बनती है। इस प्रकार की झूठी बातें मेरे विरोधी फैला रहे हैं। जबकि मेरे 5 अक्टूबर को मेरे जन्मदिन पर राहुल जी ने मुझे बहुत बढ़िया संदेश भेजा था। मैंने इस संदेश को अपने फेसबुक एकाउंट पर भी पोस्ट किया था। जिसे 78 हजार लोगों ने लाइक किया। और एक महत्वपूर्ण बात यह है कि मैंने पिछले छह महीने सोनिया गांधी और राहुल गांधी को कोई पत्र ही नहीं लिखा, तो किसी पत्र का जवाब आने या नहीं आने का सवाल कहां से उठता है।"
    पार्टी के दो बड़े नेता फैला रहे हैं झूठी खबरें
    - पार्टी के दो बड़े नेताओं(बिना नाम लिए) पर आरोप लगाते हुए कामत ने कहा,"मेरे खिलाफ पार्टी के जो दो बड़े नेता झूठी खबरें फैला रहे हैं। उनसे पूछा जाना चाहिए कि क्या उन्हें उनके जन्मदिन दिन पर सोनिया गांधी या राहुल गांधी का कोई पत्र आता है? मैंने जिस दिन से पद से इस्तीफा दिया है। उसके बाद लगातार राहुल गांधी से एसएमएस और ट्विटर के जरिए लगातार संपर्क में हूं। अभी गुजरात के मामले, राजस्थान के मामले, एआईसीसी व संगठन के मामले वे मुझ से जरूरत पड़ने पर सलाह लेते रहे हैं। जिन्हें ये बातें नहीं पता है। वे सोनिया गांधी और राहुल गांधी मुझे तवज्जो नहीं देते हैं। इस प्रकार की मनगढंत अफवाह फैलाते रहते हैं।"
  • मैंने राजनीतिक संन्यास लेने की बात कभी नहीं कही थी : गुरुदास कामत
    +1और स्लाइड देखें
    कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ कामत।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×