Hindi News »Maharashtra Latest News »Pune News »News» Pradip Lokhande, Gyan Key Library Story

कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 14, 2017, 03:30 PM IST

बिजनेस के साथ सामाजिक दायित्व निभाते हुए देशभर के 4000 स्कूलों में लाइब्रेरीज खोली है, इसका लाभ 10 लाख बच्चों को हुुआ।
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    प्रदीप अब तक कई राज्यो के सेंकडरी स्कूलों में लाइब्रेरीज खोल चुके हैं।
    पुणे. जो बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं, आम तौर पर गरीब परिवारों से आते हैं और उनके लिए घर में या बाहर एकेडमिक सामग्री के अलावा किताबें नहीं होती। उनके लिए निश्चित रूप से लाइब्रेरी ही ज्ञान और रचनात्मकता तक पहुंचने काल जरिया होता है। लेकिन देश हजारों गांवों के स्कूल में आज भी लाइब्रेरी पाई नहीं जाती। एेसे में पुणे के एक उद्यमी और सामाजिक कार्यकर्ता प्रदीप लोखंडे ने बिजनेस के साथ साथ सामाजिक दायित्व निभाते हुए देशभर के 4000 स्कूलों में लाइब्रेरीज खोली है, इसका लाभ 10 लाख बच्चों को हुआ है। बचपन में प्रदीप के घर की माली हालत काफी नाजुक थी, वे किताबें तक खरीद नहीं पाते थे। एेसे आया लाइब्रेरीज बनाने का आईडिया....

    -पुणे में रहने वाले प्रदीप लोखंडे मूल रुप से सतारा जिले के वाई गांव से हैं। वे रुरल रिलेशन नामक एनजीओ चलाते हैं।
    -प्रदीप कॉमर्स ग्रेजुएट हैं और मार्केटिंग में डिप्लोमा किया है। जॉन्सन एंड जॉन्सन जैसी कंपनियों में काम कर चुके हैं।
    -लोखंडे को नियमित रूप से आईआईएम और दुनियाभर के अन्य मैनेजमेंट स्कूलों से प्रेक्टिकल मार्केटिंग स्ट्रैटजी पर बात करने के लिए बुलाया जाता है।
    मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे
    -प्रदीप जब 1981 में पुणे आए तो उन्होंने वाडिया काॅलेज से काॅमर्स की डिग्री ली। इसके बाद उन्होंने मार्केट डिप्लोमा करने की सोची।
    -पुणे के एक नामांकित मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए वे गए लेकिन उनका गंवारापन और भाषा देख और फीस के लिए पुरे पैसे न जुटा पाने से पहले एडमिशन देने से मना किया गया।
    -उन्होंने संस्थाचालक के यहां कई बार चक्कर लगाए। उनकी जिद देख आखिरकार उन्हें एडमिशन मिल गया। पढ़ाई पूरी होने बाद उन्होंन जाॅन्सन एंड जाॅन्सन ज्वाइन की थी।

    लाइब्रेरी बनाने का एेसे आया आईडिया
    मध्यप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र के कई गांवों में काम के सिलसिले में घूम चुके हैं। काम के दौरान उन्होंने और उनकी टीम ने कई तरह के डेटा जुटाए।
    -जैसे दुकानों की संख्या, क्या बिक रहा है, कितने टेलीविजन सेट हैं, गांव में इंटरनेट कनेक्टिविटी है या नहीं आदी।ताकि पता चले कि ग्राहकों का व्यवहार क्या है और बाजार में क्या खरीदा जाता है।
    - इससे उनका विश्वास बना कि गांव के लोगों का ज्ञान बढ़ाने के लिए कुछ करना चाहिए और उन्होंने ‘ज्ञान-की इनिशिएटिव’ के तहत गांवों में सेकंडरी स्कूलों में लाइब्रेरी बनवाना शुरू किया। 2001 में इसकी शुरुआत हुई।

    इस वजह से खास है लाइब्रेरीज
    -ज्ञान-की एक विशेष तरह की लाइब्रेरी है। हर लाइब्रेरी एक गर्ल स्टूडेंट मैनेज करती है, जिसे ज्ञान-की मॉनीटर कहा जाता है।
    -2001 से ही उन्हें लोगों और कंपनियों की ओर से इस्तेमाल किए हुए कंप्यूटर मिलने लगे थे और उन्हें गांव के स्कूलों में बुलाया जाने लगा।
    -अब तक महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, अांध्रप्रदेश और कर्नाटक के 20 हजार गावों में 28 हजार डोनेटेड कंप्यूटर लगाए गए। अब वे या तो नए कंम्यूटर खरीद रहे हैं या आईटी कंपनियों से पुराने कंप्यूटर हासिल कर रहे हैं।
    -आज तक ग्रामीण सेंकडरी स्कूलों में 4000 ज्ञान की लाइब्रेरी स्थापित की जा चुकी हैं। इनसे 8.5 लाख बच्चों को फायदा हो रहा है। हर लाइब्रेरी में कई विषयों की 180 से 200 तक किताबें हैं। करीब 6,25,000 किताबें इन लाइब्रेरियों को दी गई हैं। इनकी कीमत है करीब 2 करोड़ रुपए। इनमें मैनेजमेंट, डिजास्टर मैनेजमेंट, फिजिकल ट्रेनिंग, भारतीय संविधान, नाटक, संगीत, सामाजिक और यहां तक कि सेक्स एजुकेशन की किताबें भी हैं।

    एेसे खुलती है ज्ञान-की लाइब्रेरी
    -लाइब्रेरी स्थापित करने के लिए डोनर को 6,700 रुपए का एक चैक पब्लिशर के नाम लिखना होता है, जो सीधे किताबें पहुंचा देता है। और स्टूडेंट को प्रदीप की टीम ट्रेनिंग देती है।
    -स्टूडेंट किताब पढ़ सकते हैं और फिर सीधे डोनर को या उन्हें पोस्टकार्ड लिखते हैं। प्रदीप लोखंडे, पुणे-13। इस पते पर लेटर पहुंचता है।
    -प्रदीप के पास अब तक देशभर से लाखों स्टूडेंट द्वारा मिले हैं। वे इस काम को और बढ़ाना चाहते हैं।
    आगे की स्लाइड्स में देखें प्रदीप लोखंडे के फोटोज....
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    ज्ञान -की लाइब्रेरी में अलग अलग विषयों की किताबें होती है। जो आम तौर पर स्कूलों में नहीं मिलती।
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    प्रदीप अपने इस काम को और बढ़ाना चाहते हैं।
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    ज्ञान की लाइब्रेरी से देशभर के 10 लाख स्टूडेंट को फायदा हुआ है।
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    प्रदीप को लाखों स्टूडेंट्स लेटर मिले हैं।
  • कभी पढ़ाई के लिए नहीं थे पैसे, अब 4000 स्कूलों में खोल चुके हैं लाइब्रेरीज
    +5और स्लाइड देखें
    प्रदीप ने ज्ञान-की लाइब्रेरी की शुरूआत 2001 में की थी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pune News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Pradip Lokhande, Gyan Key Library Story
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×