--Advertisement--

महिला पत्रकार संग उबर कार में सहयात्री ने की मारपीट, दर्ज हुआ केस

महिला पत्रकार ने इस घटना की पूरी डिटेल अपने फेसबुक पेज पर शेयर की है।

Danik Bhaskar | Jun 26, 2018, 02:36 PM IST

मुंबई. उबर कैब से शेयर में यात्रा करने वाली मुंबई की एक महिला पत्रकार ने एक अन्य महिला सहयात्री पर बुरी तरह से मारपीट करने का आरोप लगाया है। एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन में महिला पत्रकार की शिकायत के बाद मामला दर्ज कर लिया गया है। महिला पत्रकार ने इस घटना की पूरी डिटेल अपने फेसबुक पेज पर शेयर की है।

पुलिस कर रही है मामले की जांच

- जोन-3 के डीसीपी विरेंद्र मिश्रा ने बताया कि पीड़ित महिला पत्रकार का नाम उश्नोता पॉल है, जो सोमवार को शिवाजी पार्क से लोअर परेल स्थित ऑफिस कमला मिल तक जाने के लिए उबर कैब से यात्रा कर रही थी। उश्नोता का आरोप है कि उनके साथ यात्रा करने वाली एक महिला ने न सिर्फ उन्हें अपशब्द कहे बल्कि उनपर नाखून से हमला कर उनके बाल उखाड़ दिए। फिलहाल एनसी दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

सोशल मीडिया पर पोस्ट की पूरी कहानी
- पीड़ित पत्रकार ने पूरी आपबीती फेसबुक और ट्विटर पर पोस्ट कर दी। फेसबुक पर लिखी कहानी में महिला ने कहा है,"मैं सोमवार सुबह उबर में एक महिला सहयात्री के साथ यात्रा कर रही थी। तभी अचानक वह महिला कैब ड्राइवर से कहने लगी कि वह उसे पहले छोड़े क्योंकि उसने ज्यादा रुपये दिए हैं। जब ड्राइवर ने बीच-बचाव करने की कोशिश की तो महिला अपशब्द कहने लगी। लेकिन मैं चुप रही। उसके बाद में उसने मेरी चीजों को 'डर्टी थिंग्स' बोलकर हटाने के लिए कहा लेकिन मैं फिर भी शांत रही। इतना उकसाने के बाद भी जब मैं चुप रही तो उसने मुझ रेसिस्ट कमेंट करते हुए 'चिंकी' कहकर बुलाना शुरू कर दिया। इस दौरान मैंने उसकी तस्वीर क्लिक करनी चाही, लेकिन असफल रही क्योंकि उसने मुझपर चिल्लाते हुए मेरा फोन छीन लिया और उसे तोड़ने की धमकी दे डाली। मैंने जब उससे चिंकी कहने पर आपत्ति जताई तो उसने मुझसे कहा कि क्या कर लेगी, इसी बीच उसका ड्रॉप पॉइंट आ गया और उतरने से पहले उसने मुझ पर हमला किया। मेरे बालों को खिंचने लगी और मुझे नोचनें लगी। हमला करने के तुरंत बाद वो 'उर्मी इस्टेट' चली गई। इस दौरान वहां भीड़ इक्ट्ठा हो गई है। स्थानीय लोग और ड्राइवर ने मेरी मदद की।"

उबर ने नहीं की हेल्प
- आगे महिला पत्रकार ने उबर पर आरोप लगाते हुए लिखा,"इसके बाद मैं मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कराने गई। वहां पुलिस ने उबर को कॉल कर उसकी डिटेल्स जाननी चाही तो कस्टमर प्राइवेसी का हवाला देते हुए उबर प्रबंधन ने मना कर दिया गया। अगर वो हमलावर उनकी ग्राहक थी तो फिर मैं कौन थी।" पॉल ने आगे कहा कि इस मामले में जिस तरह से उन्हें उबर की तरफ से सहयोग मिलना चाहिए था वो नहीं मिला। ऐसे में अब भविष्य में वो उबर पर भरोसा नहीं कर सकतीं हैं।


ड्राइवर का बयान महत्वपूर्ण
- इस पूरे मामले में उबर ड्राइवर मिनहाज शेख ने बताया,"मुझे उबर कंपनी से कॉल आया और उन्होंने मुझसे इस घटना की पूरी जानकारी ली। मैंने मुंबई पुलिस को भी पूरी जानकारी दे दी है।" पुलिस के मुताबिक, कार का ड्राइवर इस मामले में सबसे महत्वपूर्ण चश्मदीद गवाह है।