पुणे / मनसे के सात कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर, घर में घुसकर अल्पसंख्यक युवक से मांगे थे पहचान के दस्तावेज

पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की। (फाइल फोटो) पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की। (फाइल फोटो)
X
पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की। (फाइल फोटो)पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की। (फाइल फोटो)

  • बालाजी नगर क्षेत्र घर में घुसे कार्यकर्ताओं ने दस्तावेज मांगे थे, पकड़कर ले गए थे थाने 
  • पार्टी ने 9 फरवरी को रैली कर अवैध बांग्लादेशियाें के खिलाफ अभियान शुरू किया है

दैनिक भास्कर

Feb 25, 2020, 01:15 PM IST

पुणे. महाराष्ट्र की पुणे पुलिस ने महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) कार्यकर्ताओं के खिलाफ सोमवार देर रात को एफआईआर दर्ज की है। कार्यकर्ताओं पर आरोप है कि अल्पसंख्यक समुदाय के एक व्यक्ति के घर में घुसकर उसे अवैध बांग्लादेशी बताकर परेशान किया गया। कार्यकर्ताओं ने उससे भारतीय होने के दस्तावेज मांगे और इसके बाद पकड़कर थाने भी ले गए। मामला बालाजी नगर इलाके का है। इस संबंध में शनिवार को थाने में शिकायत की गई थी। 


दरअसल, मनसे की ओर से पिछले हफ्ते अवैध बांग्लादेशियों के खिलाफ एक अभियान शुरू किया गया है, इसको लेकर 9 फरवरी को मुंबई में मनसे प्रमुख राज ठाकरे की रैली भी हुई थी। इसमें भारत से अवैध पाकिस्तानी और बांग्लादेशी घुसपैठियों को बाहर निकालने की मांग की गई। इसी के बाद बालाजी नगर निवासी रोशन शेख (35) ने पुलिस से शिकायत की कि कुछ मनसे कार्यकर्ताओं ने उसके घर में घुसकर उसे बांग्लादेशी नागरिक बताया। जबकि वह पश्चिम बंगाल का रहने वाला है और पुणे में काम कर रहा था।

मनसे कार्यकर्ताओं को दस्तावेज दिखाए, पुलिस ने सत्यापन किया

रोशन ने पुलिस को यह भी बताया कि उसने कार्यकर्ताओं को समझाने की कोशिश भी की। उसने सभी दस्तावेज भी उन लोगों को दिखाए, लेकिन उन्होंने बात नहीं मानी। शेख और 2 अन्य व्यक्तियों को सहकार नगर पुलिस स्टेशन ले गए। यहां पर पुलिस ने दस्तावेजों का सत्यापन किया। शेख की शिकायत के आधार पर पुलिस ने मनसे के 7 कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना