--Advertisement--

भैय्यूजी महाराज के काफिले की कार ने मारी फूल विक्रेता को टक्कर, सामने आया वीडियो

इस टक्कर के बाद घायल शख्स का मुंबई के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज जारी है।

Danik Bhaskar | Apr 28, 2018, 11:56 AM IST
टक्कर मारने के बाद भी काफिला न टक्कर मारने के बाद भी काफिला न

मुंबई. देश के जाने माने संत भैय्यूजी महाराज के काफिले की गाड़ी ने सड़क पार कर रहे एक फूल विक्रेता को कुचल दिया। फूल बेचने वाले को कुचलने के बावजूद काफिले की गाड़ी वहां नहीं रुकी। इस टक्कर के बाद घायल शख्स का मुंबई के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज जारी है। इस काफिले में पुणे बीजेपी के कई नेता भी शामिल थे। अब इस घटना का एक सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है।

कैमरे में कैद हुई घटना
- 23 अप्रैल की यह घटना सड़क किनारे लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। इसमें फूल विक्रेता मनोज गड़करी सड़क पार करते हुए नजर आ रहे हैं।
- तभी एक तेज रफ्तार एसयूवी कार पीछे से आती है और उन्हें टक्कर मारकर आगे बढ़ जाती है। - मनोज के बेटे जय ने बताया,"मेरे पिता 23 अप्रैल को रोड क्रॉस कर रहे थे, तभी भैय्यूजी महाराज के काफिले की एक गाड़ी ने उन्हें टक्कर मार दी। फिलहाल उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। टक्कर मारने के बाद स्थानीय लोगों ने मेरे पिता की हेल्प की। भैय्यूजी का कोई समर्थक उन्हें देखने के लिए रुका तक नहीं।"

तीन जगह से टूटा पैर

- मनोज मुंबई के सोमैया हॉस्पिटल में एडमिट हैं। यहां के डॉक्टर्स के मुताबिक, मनोज गड़करी के दोनों पैरों पर कार के एक तरफ के दोनों पहिए चढ़ गए थे। जिससे उनका एक पैर तीन जगह से टूट गया है। सर्जरी के जरिए इसे ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है।

परिवार ने दर्ज करवाई एफआईआर
- बता दें राजेश कुर्ला-पूर्व इलाके के रहने वाले हैं। इस घटना के बाद अब उनके परिजनों ने मुंबई के नेहरू नगर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज करवाई है।

- मुंबई पुलिस के प्रवक्ता और डीसीपी शाहजी उपम ने बताया,"हमने पीड़ित के बेटे की शिकायत पर अज्ञात शख्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 279 (गलत ढंग से कार चलाने), धारा 338(किसी को गंभीररूप से घायल करना, जिससे उसकी जान पर संकट उत्पन्न हुआ हो) और मोटर वेहिकल एक्ट की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

स्थानीय विधायक ने दिया हेल्प का भरोसा
- घटना वाले दिन भैय्यूजी महाराज और उनके समर्थक स्थानीय शिवसेना विधायक मंगेश कुडालकर द्वारा आयोजित केदारनाथ मंदिर पुनरुत्थान कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे।

- मीडिया में मामला आने के बाद शिवसेना विधायक मनोज को देखने के लिए हॉस्पिटल पहुंचे और इलाज को लेकर हर संभव हेल्प का वादा किया है।

- परिवार का कहना है कि मनोज गड़करी के इलाज का बिल लाख रुपये के ऊपर पहुंचा गया है। उनके बेटे जय ने बताया कि एमएलए की ओर से उन्हें 25 हजार रुपए भी दिए गए हैं।

कौन हैं भय्यूजी महाराज?
- भैय्यूजी महाराज का वास्तविक नाम उदयसिंह देखमुख है। उनका जन्म शुजालपुर के एक किसान परिवार में हुआ था। उनका मुख्य आश्रम इंदौर स्थित बापट चौराहे पर है। सदगुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट उनके सानिध्य में संचालित होता है। कई राजनीतिक और फिल्मी हस्तियां उनके आश्रम में जा चुकी हैं।
- सद्भावना उपवास के दौरान मोदी ने उन्हें गुजरात बुलाया था। वे चर्चा में तब आए जब अन्ना हजारे के अनशन को खत्म करवाने के लिए तत्कालीन केंद्र सरकार ने उन्हें अपना दूत बनाकर भेजा था। बाद में अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था।

मिला है मंत्री का दर्जा
-'हाई प्रोफाइल' संत भैय्यूजी महाराज को कुछ दिनों पहले मध्यप्रदेश सरकार ने मंत्री का दर्जा दिया था। उनके साथ चार अन्य साधुओं को भी मंत्री बनाया गया था।
- भैय्यूजी महाराज पिछले साल अपनी दूसरी शादी को लेकर भी सुर्खियों में रहे थे। उनकी वाइफ माधवी महाराष्ट्र के औरंगाबाद की रहने वाली हैं।