--Advertisement--

फर्जी कंपनी के सहारे 2252 करोड़ रुपये विदेश भेजने वाला हवाला ऑपरेटर अरेस्ट

आरोप है की इस शख्स ने साल 2015-16 के दौरान 13 फर्जी फर्म के नाम पर करीब 2252 करोड़ रुपये विदेश भेजे थे।

Danik Bhaskar | Apr 25, 2018, 01:12 PM IST
ईडी का मानना है कि इतने बड़े हवाला कारोबार को फारूक अकेला अंजाम नहीं दे सकता। इसके पीछे कुछ और लोग हो सकते हैं। ईडी का मानना है कि इतने बड़े हवाला कारोबार को फारूक अकेला अंजाम नहीं दे सकता। इसके पीछे कुछ और लोग हो सकते हैं।

- 2014 में शेख को जवाहरलाल नेहरू पोर्ट पर 14 इंच वाले 16000 चाकुओं के साथ हिरासत में लिया गया था

- सूत्रों के मुताबिक, यह हवाला कारोबार 10 हजार करोड़ रुपए का हो सकता है

मुंबई. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 160 फर्जी खाते खोलकर मनी लांड्रिंग रैकेट चलाने के आरोप में एक शख्स को मुंबई एयरपोर्ट से अरेस्ट किया है। आरोप है की उसने 2015-16 के दौरान 13 फर्जी फर्म के नाम पर करीब 2252 करोड़ रुपए विदेश भेजे थे। बताया जा रहा है कि केंद्रीय जांच और खुफिया एजेंसियां उसे करीब चार साल से ट्रैक कर रही थीं। विशेष अदालत ने उसे 2 दिन की ईडी की हिरासत में भेज दिया है। अनुमान है कि यह हवाला कारोबार 10द हजार करोड़ रुपए का हो सकता है।

कई दिनों से ट्रैक कर रही थी ED
- ईडी द्वारा अरेस्ट शख्स का नाम मोहम्मद फारूक शेख उर्फ 'फारूख पेपरवेट' (39 साल) है। ईडी ने उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था।

कई अन्य हो सकते हैं गिरफ्तार
- ईडी सूत्रों का कहना है कि इतने बड़े घोटाले को फारूक अकेले अंजाम नहीं दे सकता था। अब उसके अन्य साथियों और कंपनियों की तलाश की जा रही है।

ऐसे अंजाम दिया घोटाला
- जांच में सामने आया है कि शेख ने हवाला कारोबार करने के लिए स्टेल्कॉन कंपनी बनाई थी और इसके 150 से ज्यादा बैंक खाते थे। इन खातों के सहारे यह मनी लांड्री करता था।
- यह हवाला कारोबार को अंजाम देने के लिए विदेशों से फर्जी आयात के बिल दिखाता था और यहां से जो भुगतान विदेशी फर्मों को होता था वह सब फर्जी होता था।
- सूत्रों के मुताबिक, स्टेल्कॉन ने आयात सौदों के भुगतान के लिए जिन बैंकों का सहारा लिया है वे पीएनबी, कैनरा बैंक, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, कॉर्पोरेशन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और एक्सिस बैंक हैं। यह राशि विदेशों में आरटीजीएस और एनईएफटी के जरिए भेजी गई।

सभी फर्मों के एड्रेस फर्जी
- ईडी के मुताबिक, सभी 13 फर्मों के पते फर्जी हैं और डमी लोगों को इसका निदेशक बताया गया था। फारूक परोक्ष रूप से इन पर नियंत्रण करता था।

16 हजार चाकुओं के साथ पकड़ा गया था शेख
- 2014 में शेख को जवाहरलाल नेहरू पोर्ट पर 14 इंच वाले 16000 चाकुओं के साथ हिरासत में लिया गया था। पूछताछ के बाद उसे रिहा कर दिया गया था। बताया जाता है कि तभी से कस्टम, ईडी और सीबीआई ने उस पर नजर रखना शुरू कर दिया था।

फारुख पर कई हजार करोड़ रुपए गलत ढंग से विदेश भेजने का आरोप है। फारुख पर कई हजार करोड़ रुपए गलत ढंग से विदेश भेजने का आरोप है।