--Advertisement--

कोरेगांव भीमा हिंसा मामला: गिरफ्तार सभी पांचों आरोपी 2 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में

पांचों दलित कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी पिछले साल दिसंबर में पुणे में एक सभा में कथित भड़काऊ भाषणों के सिलसिले में हुई है।

Dainik Bhaskar

Jul 04, 2018, 06:29 PM IST
Koregaon Bhima Violence update.

पुणे. भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार सभी पांचों दलित कार्यकर्ताओं की न्यायिक हिरासत 2 अगस्त तक बढ़ा दी गई है। कोर्ट ने पांचों दलित कार्यकर्ताओं को अगली सुनवाई के दौरान पेश होने के निर्देश दिए है। पुणे पुलिस ने तथाकथित 'शहरी नक्सली समर्थकों' के खिलाफ एक बड़े अभियान के तहत पिछले महीने महाराष्ट्र और नई दिल्ली से पांच दलित कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था।

देश के अलग-अलग इलाकों से हुए थे अरेस्ट

- पांचों दलित कार्यकर्ताओं की गिरफ़्तारी पिछले साल दिसंबर में पुणे में एक सभा में कथित भड़काऊ भाषणों के सिलसिले में हुई है। गिरफ्तार लोगों में मुंबई के सुधीर धवले, नागपुर के वकील सुरेंद्र गाडलिंग और दिल्ली के कार्यकर्ता रोना जैकब विल्सन शामिल हैं। इसके अलावा पुलिस ने नागपुर में शोमा सेन और मुंबई में महेश राउत को भी गिरफ्तार किया ।

शनिवारवाड़ा में आयोजित कार्यक्रम में हेट स्पीच का आरोप
- गिरफ्तार लोगों ने पिछले साल 31 दिसंबर को पुणे के शनिवारवाड़ा में एलगार परिषद आयोजित किया था। यह परिषद ब्रिटिश सेना और पेशवा बाजीराव द्वितीय के बीच हुए ऐतिहासिक युद्ध की 200वीं वर्षगांठ पर आयोजित की गई थी। इस परिषद के दूसरे दिन कोरेगांव-भीमा में हिंसा हुई।

उमर खालिद भी हुए थे शामिल
इस आयोजन को गुजरात के दलित नेता और विधायक जिग्नेश मेवानी, जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद, छत्तीसगढ़ की सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी और भीम सेना के अध्यक्ष विनय रतन सिंह ने संबोधित किया था। इसके एक दिन बाद (एक जनवरी को) कोरेगांव-भीमा में दंगे भड़कने के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

X
Koregaon Bhima Violence update.
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..