पुणे / सूखे का हवाला देते हुए सरकार ने बारामती जाने वाला पानी रोका, एनसीपी ने लगाया आरोप



नीरा देवघर बांध-फाइल नीरा देवघर बांध-फाइल
X
नीरा देवघर बांध-फाइलनीरा देवघर बांध-फाइल

  • सरकार की ओर से कहा गया है कि यह पानी सूखाग्रस्त इलाकों में भेजा जाएगा
  • बारामती राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार का गृह जनपद है

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 04:15 PM IST

पुणे. महाराष्ट्र में भीषण सूखे का हवाला देते हुए सरकार ने बारामती जाने वाले बांध के पानी को रोक दिया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि यह पानी सूखाग्रस्त इलाकों में भेजा जाएगा। बता दें कि बारामती राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार का गृह जनपद है। जिसके बाद अब इस मामले को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। 

 

लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा नेता ने उठाया था मामला

पुणे स्थित नीरा देवघर बांध से कुछ पानी अभी तक बारामती और इंदापुर (बारामती लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा) में भेजा जाता था। लोकसभा चुनाव प्रचार मुहिम के दौरान बीजेपी नेता रणजीत नाइक निम्बालकर ने बारामती को अतिरिक्त पानी के वितरण का मामला उठाया था। 

 

बीजेपी नेता ने दावा किया था कि बारामती और इंदापुर नीरा देवघर बांध से लाभान्वित होने वाले तय इलाकों (कमांड एरिया) से बाहर हैं। उन्होंने कहा कि बांध का जल बारामती के गन्ना किसानों को भेजे जाने से सोलापुर और सतारा जिलों में पर्याप्त पेयजल नहीं मिल पा रहा है। 

 

सतारा, सोलापुर और सांगली भेजा जाएगा पानी

जल संसाधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि नवनियुक्त बीजेपी सांसद की आपत्तियों के बाद राज्य सरकार ने बारामती एवं इंदापुर को मिलने वाले पानी को रोकने का बुधवार को आदेश दिया है। यह जल सूखाग्रस्त इलाकों सतारा, सोलापुर और सांगली में भेजा जाएगा। 

 

पानी का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए: सुप्रिया सुले

बता दें कि बारामती लोकसभा सीट पर पिछले 27 साल से पवार परिवार का कब्जा रहा है। इस बार भी यहां से सुप्रिया सुले सांसद बनी हैं। इस फैसले पर सुप्रिया सुले ने कहा,"मैंने प्रस्ताव नहीं देखा है। एक जिम्मेदार सांसद के रूप में, मैं प्रस्ताव को पढ़े बिना कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं, लेकिन मुझे लगता है कि पानी बहुत संवेदनशील मुद्दा है और इसका राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए।"

COMMENT