--Advertisement--

पलूस कड़ेगांव उपचुनाव: विश्वजीत कदम निर्विरोध विजयी हुए, औपचारिक ऐलान बाकी

भाजपा प्रत्याशी संग्रामसिंह देशमुख के साथ ही 8 निर्दलीयों ने भी वापस लिया नामांकन

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 10:39 AM IST
पूर्व मंत्री पतंगराव कदम के पुत्र है विश्वजीत कदम। पूर्व मंत्री पतंगराव कदम के पुत्र है विश्वजीत कदम।

पुणे. पलूस कड़ेगांव विधानसभा सीट के उपचुनाव में सोमवार को भाजपा प्रत्याशी संग्रामसिंह देशमुख व आठ अन्य निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपने नामांकन वापस ले लिए। इसके साथ ही इस सीट से कांग्रेस प्रत्याशी व राज्य के पूर्व मंत्री पतंगराव कदम के पुत्र विश्वजीत कदम निर्विरोध चुन लिए गए। अब सिर्फ इसकी औपचारिक घोषाणा की जानी है। पलूस कडेगांव विधानसभा सीट पर उपचुनाव 28 मई को होना है। वहीं, मतगणना 31 मई को होगी। वर्ष 2014 में विश्वजीत ने पुणे लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था लेकिन वह हार गए थे।

कांग्रेस की गणित ने किया काम

- विश्वजीत के निविर्रोध चुने जाने के लिए कांग्रेस ने कोशिश की थी। राकांपा ने भी विश्वजीत को समर्थन दिया था। पूर्व मंत्री हर्षवधर्न पाटील ने भाजपा को प्रत्याशी खड़ा न करने का अनुरोध किया था, लेकिन भाजपा ने यहां से संग्रामसिंह देशमुख को उतार दिया। उन्होंने शक्ति प्रदर्शन कर नामांकन भी दाखिल किया था। इसलिए कदम और देशमुख में तगड़े मुकाबले की संभावना बनी हुई थी।

राजस्व मंत्री ने किया देशमुख की नामांकन वापसी का ऐलान
- सोमवार को नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख थी। इसी बीच राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटील ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर देशमुख के नामांकन वापस लेने की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा कि डॉ. पतंगराव कदम राज्य के वरिष्ठ नेता थे।
- अन्य दलों के नेताओं ने उनके सम्मान में अपने प्रत्याशी नहीं उतारे। इसलिए भाजपा भी बिना शर्त अपने प्रत्याशी का नामांकन वापस ले रही है। देशमुख के नामांकन वापस लेते ही अन्य आठ निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी अपने पर्च वापस ले लिए।

शिवसेना ने भी कदम का किया था समर्थन
-
10 मई को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ शिवसेना ने भी समर्थन दे दिया था। इस संदर्भ में सांसद संजय राऊत ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा,"उक्त उपचुनाव निर्विवाद हो ऐसी शिवसेना की इच्छा थी। लेकिन दुर्भाग्यवश ऐसा नहीं हो रहा है। सहकार क्षेत्र में डॉ. पतंगराव कदम का कार्य राजनीति से परे हैं। उनका योगदान ध्यान में लेते हुए शिवसेना विश्वजीत को समर्थन देगी। यह हमारी डॉ. पतंगराव कदम को श्रध्दांजलि होगी।"

विश्वजीत कदम। विश्वजीत कदम।