Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Pranav Mukharji Pay Tribute To Dr Hedgewar.

डॉ कलाम के बाद हेगडेवार को उनके घर जाकर श्रद्धांजलि देने वाले प्रणव दूसरे राष्ट्रपति

प्रणव मुखर्जी ने डॉ हेगडेवार को भारत मां का सच्चा सपूत बताया है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 07, 2018, 07:38 PM IST

  • डॉ कलाम के बाद हेगडेवार को उनके घर जाकर श्रद्धांजलि देने वाले प्रणव दूसरे राष्ट्रपति
    +1और स्लाइड देखें
    पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर प्रणव मुखर्जी ने डॉक्टर हेडगेवार के घर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की

    नागपुर. तमाम विरोधों के बीच पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के कार्यक्रम में शामिल हुए। संघ शिक्षा वर्ग (तृतीय वर्ष) के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे प्रणव ने अपने संबोधन से पहले आरएसएस संस्थापक डॉ. केशव राव बलिराम हेडगेवार को उनके घर जाकर श्रद्धांजलि दी और उन्हें 'भारत मां का सच्चा सपूत' बताया है। अब्दुल कलाम के बाद प्रणब दूसरे पूर्व राष्ट्रपति हैं, जिन्होंने नागपुर में हेडगेवार को श्रद्धांजलि दी। बता दें कि हेडगेवार ने 27 सितंबर,1925 को जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की स्थापना की थी।

    विजिटर बुक में प्रणव का मेसेज
    - गुरुवार को डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार के जन्मस्थान पहुंचे पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने विजिटर बुक में लिखा, "आज मैं यहां भारत माता के एक महान सपूत के प्रति अपना सम्मान जाहिर करने और श्रद्धांजलि देने आया हूं।"
    - प्रणव इसके बाद साढ़े छह बजे तृतीय वर्ष का प्रशिक्षण लेने वाले काडर को संबोधित करने के लिए संघ मुख्यालय पहुंचे। तकरीबन 5 दशक से कांग्रेस की राजनीति करने वाले पूर्व राष्ट्रपति का संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लेना अप्रत्याशित माना जा रहा है। प्रणव गुरुवार रात 9:30 बजे तक संघ मुख्यालय में मौजूद रहेंगे।

    ये गैर बीजेपी नेता भी हुए हैं संघ के कार्यक्रम में शामिल

    -बता दें कि जुलाई 2014 में पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने भी नागपुर जाकर हेडगेवार को श्रद्धांजलि दी थी। प्रणब ऐसा करने वाले दूसरे पूर्व राष्ट्रपति हैं।
    - प्रणव मुखर्जी पहले गैर बीजेपी नेता नहीं हैं जो संग मुख्यालय या आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल हुए हैं। इनसे पहले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम, पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी, वी.वी. गिरी, करुणानिधि, ज्योति बसु, हरेकृष्ण कोनार, नीलम संजीव रेड्डी, मिर्जा हमीदुल्ला बेग, रामनरेश यादव, जगजीवन राम, नारायण दत्त तिवारी, शिवराज पाटिल, डॉ. कर्णसिंह, मालवीय जी, गांधी जी, विनोबा भावे, जयप्रकाश नारायण, डॉ. राधाकृष्णन, मोरारजी देसाई, प्रभाष जोशी, शरद यादव, शंकर दयाल शर्मा, कुंवर महमूद अली, बलराम जाखड़, अन्ना हजारे, खुशवंत सिंह, एच.डी. देवेगौड़ा, मुलायम सिंह, सुशील कुमार शिंदे, एम.जी. बोकारे, अजीम प्रेमजी आदि भी आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल हुए हैं।

    वन्देमातरम् गाने की वजह से स्कूल से निकाले गए थे हेगडेवार
    - डॉ. हेडगेवार का जन्म 1 अप्रैल 1889 को नागपुर के ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनकी बेसिक एजुकेशन नागपुर के नील सिटी हाईस्कूल में हुई। लेकिन, एक दिन स्कूल में वंदेमातरम गाने की वजह से उन्हें निष्कासित कर दिया गया।
    - उसके बाद उनके भाइयों ने उन्हें पढ़ने के लिए यवतमाल और फिर पुणे भेजा। मैट्रिक के बाद हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी एस मूंजे ने उन्हें मेडिकल की पढ़ाई के लिए कोलकाता भेज दिया। पढ़ाई पूरी करने के बाद वह 1915 में नागपुर लौट आए।

    कांग्रेस में भी रहे हेगडेवार
    - आजादी की लड़ाई चल रही थी और हेडगेवार भी शुरुआती दिनों में कांग्रेस में शामिल हो गए। 1921 के असहयोग आंदोलन में हिस्सा लिया और एक साल जेल में बिताया। लेकिन, मिस्र के घटनाक्रम के बाद भारत में शुरू हुए धार्मिक-राजनीतिक खिलाफत आंदोलन के बाद उनका कांग्रेस से मन खिन्न हो गया। 1923 में सांप्रदायिक दंगों ने उन्हें पूरी तरह उग्र हिंदुत्व की ओर ढकेल दिया।

    तिलक और सावरकर का गहरा प्रभाव रहा
    - वह हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी एस मुंजे के संपर्क में शुरू से थे।
    - मुंजे के अलावा हेडगेवार के व्यक्तित्व पर बाल गंगाधर तिलक और विनायक दामोदर सावरकर का बड़ा प्रभाव था।


    इसलिए शुरू किया आरएसएस
    - हिंदू राष्ट्र की परिकल्पना को साकार करने के लिए 1925 में विजय दशमी के दिन डॉ. हेडगेवार ने संघ की नींव रखी।
    - वह संघ के पहले सरसंघचालक बने। हेडगेवार ने शुरू से ही संघ को सक्रिय राजनीति से दूर सिर्फ सामाजिक-धार्मिक गतिविधियों तक सीमित रखा।
    - हेडगेवार का मानना था कि संगठन का प्राथमिक काम हिंदुओं को एक धागे में पिरो कर एक ताकतवर समूह के तौर पर विकसित करना है। हर रोज सुबह लगने वाली शाखा में कुछ खास नियमों का पालन होता था।

  • डॉ कलाम के बाद हेगडेवार को उनके घर जाकर श्रद्धांजलि देने वाले प्रणव दूसरे राष्ट्रपति
    +1और स्लाइड देखें
    पूर्व राष्ट्रपति ने डॉक्टर हेडगेवार के घर जाकर विजिटर बुक में उनके लिए संदेश लिखा
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×