सम्मान / राष्ट्रपति कोविंद ने आईएनएस शिवाजी को प्रेसिडेंट कलर से नवाजा, 75 साल से कर रहा है राष्ट्र की सेवा

प्रेसिडेंट कलर को राष्ट्रपति ने फ्लैग ऑफिसर को सौंपा। प्रेसिडेंट कलर को राष्ट्रपति ने फ्लैग ऑफिसर को सौंपा।
X
प्रेसिडेंट कलर को राष्ट्रपति ने फ्लैग ऑफिसर को सौंपा।प्रेसिडेंट कलर को राष्ट्रपति ने फ्लैग ऑफिसर को सौंपा।

  • आईएनएस शिवाजी, लोनावला को 1945 में एचएमआईएस शिवाजी के रूप में कमीशन किया गया था
  • आईएनएस शिवाजी में भारतीय नौसेना, तटरक्षक, मित्र देशों के नेवल ऑफिसर को इंजीनियरिंग में प्रशिक्षण दिया जाता है 

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2020, 08:43 AM IST

पुणे. गुरुवार को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने लोनावाला में आईएनएस शिवाजी को राष्ट्रपति के रंग(प्रेसीडेंट्स कलर ध्वज) प्रदान किया। इस मौके पर राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी भी युद्ध पोत पर मौजूद थे। आईएनएस शिवाजी, लोनावला को 1945 में एचएमआईएस शिवाजी के रूप में कमीशन किया गया था। यह भारतीय नौसेना का एक श्रेणी 'ए' का प्रशिक्षण प्रतिष्ठान है।

आईएनएस शिवाजी ने भारतीय नौसेना, तटरक्षक, मित्र देशों के नेवल ऑफिसर को इंजीनियरिंग में प्रशिक्षण प्रदान करके राष्ट्र को 75 वर्षों की शानदार सेवा प्रदान की है। आईएनएस शिवाजी अब तक 2 लाख से ज्यादा सैन्य कर्मियों को ट्रेनिंग दे चुका है। प्रेसीडेंट्स कलर एक सर्वोच्च सम्मान है जिसे किसी भी सैन्य इकाई को उत्कृष्ट कार्य के लिए राष्ट्रपति की ओर से दिया जाता है। गुरुवार को भारतीय नौसेना के 130 अधिकारियों और 630 सेलर के ग्रुप के नेतृत्व करने वाले 'निशान अधकारी' ने राष्ट्रपति के हाथों इस सम्मान को ग्रहण किया। 

बैंक में जमा रकम पर 5 लाख रुपये का बीमा एक सकरात्मक कदम: कोविंद
इससे पहले राष्ट्रपति कोविंद ने बुधवार को पुणे में राष्ट्रीय बैंक प्रबंधन संस्थान के स्वर्ण जयंती समारोह में शामिल हुए। इस समारोह में बोलते हुए राष्ट्रपति ने कहा,'रिजर्व बैंक की विस्तृत नियामकीय भूमिका से गलत प्रचलनों पर रोक लगेगी तथा देश की वित्तीय प्रणाली अधिक विश्वसनीय बनेगी।'

राष्ट्रपति ने कहा कि हाल ही में एक नियामक के रूप में रिजर्व बैंक की भूमिका विस्तृत की गई है। उन्होंने कहा, ''हमें भरोसा है कि इससे गलत प्रचलनों पर रोक लगेगी तथा हमारी वित्तीय प्रणाली अधिक विश्वसनीय बनेगी। बैंक देश की आर्थिक प्रणाली के आधार हैं। इन्होंने पिछले कई साल से देश की आर्थिक वृद्धि को गति देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

उन्होंने कहा कि हमने वित्तीय समावेश के जरिये उन लोगों को बैंकिंग सेवाओं से जोड़ने में तेज प्रगति की है, जो अब तक इन सेवाओं से वंचित थे। राष्ट्रपति ने कहा कि जमा पर बीमा की सीमा को एक लाख रुपये से बढ़ा पांच लाख रुपये किया जाना बचतकर्ताओं को आश्वस्त करने की दिशा में उठाया गया एक सकारात्मक कदम है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना