मौसम / पुणे में 6 ब्रिज बंद किए गए, कोल्हापुर में 10 हजार लोगों को रेस्क्यू किया गया



X

  • लोनावाला में भूस्खलन के बाद पहाड़ का मलबा पटरियों पर आ गिरा, इससे पुणे-मुंबई रेल रूट शनिवार से ठप
  • जलभराव के चलते पुणे में विभिन्न इलाकों से 5 हजार लोगों को रेस्क्यू किया, सभी स्कूल और कॉलेज आज बंद
  • मंगलवार को पुणे-बेंगलुरु हाइवे में भी जलभराव के कारण वाहनों का अवागमन बंद कर दिया गया

Dainik Bhaskar

Aug 06, 2019, 07:41 PM IST

पुणे. मध्य महाराष्ट्र में लगातार बारिश का दौर जारी है। पुणे में मंगलवार को लगातार चौथे दिन बारिश हो रही है। मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 72 घंटे यानि 9 अगस्त से पहले लोगों को बारिश से राहत मिलने की संभावना कम है। पुणे के बाढ़ग्रस्त कल्याणी नगर, बानेर और औंध इलाकों से एनडीआरएफ के जवानों ने 5 हजार से ज्यादा लोगों को रेस्क्यू किया है।

 

पुणे शहर से सटे मावल और खड़कवासला डैम से पानी छोड़े जाने से शहर से होकर बहने वाली पवना, मुठा और मुला नदियों में बाढ़ जैसी स्थिति है। निचले इलाकों के घर, झोपड़ियों में पानी घुस जाने के बाद एनडीआरएफ, फायर ब्रिगेड, पुलिस और अन्य संस्थाओं की मदद से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया गया है।

 

कोल्हापुर में 10 हजार लोगों को रेस्क्यू किया गया 

कोल्हापुर जिले में मूसलाधार बारिश से कई निचले इलाकों में मंगलवार को बाढ़ आ गई जिसके बाद 10,000 लोगों को वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। 

 

कोल्हापुर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अभिनव देशमुख ने बताया कि क्षेत्र में जलभराव के चलते दक्षिण कोल्हापुर से कर्नाटक के बेलगाम के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग को यातायात के लिए बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा, “सोमवार को, हमने राष्ट्रीय राजमार्ग के एक हिस्से को बंद कर दिया था।

 

 

कोल्हापुर में पुणे-बेंगलुरु राजमार्ग बंद

कोल्हापुर में जारी भारी बारिश के कारण शिरोली के पास जल-जमाव की वजह से पुणे-बेंगलुरु राजमार्ग पर अवागमन बंद कर दिया गया।

 

सांगली में बाढ़ग्रस्त इलाकों से लोगों को निकाला गया 

सोमवार सुबह से महाराष्ट्र के सांगली में भी भारी बारिश हो रही है। महाबलेश्वर के कई इलाके जलमग्न हो गए है। जिसके बाद एनडीआरएफ के जवानों ने बाढ़ग्रस्त इलाकों से तकरीबन 2 हजारों लोगों को स्थानांतरित किया है।

 

पुणे में कहां-कितनी हुई बारिश 

सोमवार सुबह 8.30 से शाम 5.30 बजे तक पुणे के शिवाजीनगर में 41.1 मिमी, लोहगांव में 27.4 मिमी और पाषाण में 52.4 मिमी बारिश हुई। रविवार को सुबह 8.30 बजे से लेकर सोमवार को सुबह 8.30 बजे तक पालघर जिले में सबसे अधिक 450 मिमी बारिश हुई, इसके बाद त्रयंबकेश्वर में 400 मिमी बारिश दर्ज की गई।

 

30 में से 6 ब्रिज बंद, स्कूल बंद

नदियों में बाढ़ जैसी स्थिति के कारण पुणे से पिंपरी को जोड़ने तीन ब्रिजों को बंद कर दिया गया। इनके अलावा मुठा नदी के जलस्तर में वृद्धि के बाद पुणे के तीन अन्य पुलों पर भी आवागमन रोक दिया गया। शहर में छोटे-बड़े कुल 30 ब्रिज हैं। सोमवार की तरह ही शहर के सभी स्कूल और कॉलेज मंगलवार को भी बंद रहेंगे।

 

8 साल में सबसे ज्यादा पानी खड़कवासला डैम से छोड़ा गया 

सोमवार को खड़कवासला बांध से मुठा नदी में 45,474 क्यूसेक की दर से पानी छोड़ा गया, जो आठ वर्षों में सबसे अधिक है। 1997 में बांध से 90,570 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था, जिससे मुठा नदी के किनारे बड़े पैमाने पर बाढ़ आ गई थी। पुणे महानगर पालिका के उपायुक्त सुनील इंदलकर ने सभी वार्ड ऑफिसर्स को सतर्क रहने को कहा है। बाढ़ पीड़ितों को रखने के लिए कई स्कूल और कॉलेजों को भी तैयार किया गया है। हालांकि, मंगलवार सुबह से बारिश से थोड़ी राहत है।

 

पुणे-मुंबई रेल रूट हुआ ठप

लोनावाला के पास स्थित मंकीहिल में लैंडस्लाइड के बाद पहाड़ का मलबा पटरियों पर आ गिरा। इससे पुणे-मुंबई रेल रूट शनिवार से ठप है। सेंट्रल रेलवे के मुताबिक, मंगलवार दोपहर तक इसे फिर से सुचारू कर लिया जाएगा। इससे पुणे और मुंबई के बीच चलने वाली पांच इंटरसिटी, डेक्कन क्वीन और सिंहगढ़ एक्सप्रेस नहीं चल रही है।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना