मुंबई के बाद पुणे में बांग्लादेशियों के खिलाफ मनसे का आंदोलन, घर-घर जाकर चेक किए आईकार्ड

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की। - Dainik Bhaskar
पुणे के कई इलाकों में मनसे कार्यकर्ताओं ने लोगों से पूछताछ की।
  • खास बात यह थी कि मनसे नेताओं के साथ पुलिस के कुछ अधिकारी भी मौजूद थे
  • कुछ दिन पहले पुणे में अवैध बांग्लादेशियों के खिलाफ पोस्टर लगाए गए थे

पुणे. अवैध बांग्लादेशियों के खिलाफ मुंबई से शुरू हुआ आंदोलन पुणे तक पहुंच गया है। शनिवार को मनसे के एक दर्जन से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने शहर के धनकवड़ी इलाके में जाकर घर-घर जांच की और लोगों के आईकार्ड चेक किए। खास यह था कि मनसे नेताओं ने एक साथ पुलिस के कुछ अधिकारी भी मौजूद थे।   

एक शख्स के पास मिले दो आईकार्ड
मनसे के पुणे शहर प्रमुख अजय शिंदे ने बताया कि जांच के दौरान एक युवा के पास दो वोटर आईडी कार्ड मिले हैं। मनसे कार्यकर्ता उसे पुलिस स्टेशन लेकर गए हैं। ऐसे ही कई लोग शहर में रह रहे हैं, इसलिए इनकी जांच जरूरी है। 

मनसे ने पोस्टर लगाकर अवैध बांग्लादेशियों को चेतावनी दी थी
कुछ दिन पहले पुणे में पार्टी की ओर से पोस्टर लगाए गए थे। इनमें लिखा था- 'बांग्लादेशी निकलो वरना मनसे स्टाइल से निकाले जाओगे।' 

पोस्टरों में मनसे ने लिखा था- 'भारत मेरा देश है, मेरा मेरे देश पर प्रेम है। घूसखोरी करने वाले मेरे बंधु नहीं और ना ही वो भारतीय हैं। उन्हें इस देश से निकाल देना चाहिए।' पोस्टर में राज ठाकरे और उनके बेटे अमित ठाकरे की तस्वीरें लगी हैं। अभी कुछ दिन पहले राज ठाकरे ने सीएए के मुद्दे पर मोदी सरकार को सपोर्ट करने का ऐलान किया था।