--Advertisement--

डॉक्टर संग मारपीट के आरोप में हिरासत में ली गई तृप्ति देसाई, पूछताछ के बाद छोड़ा गया

हिरासत में ली गई तृप्ति को पूछताछ के बाद जाने दिया गया।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 05:03 PM IST

पुणे. शनि शिगनापुर और हाजी अली दरगाह में महिलाओं की एंट्री को लेकर आंदोलन की अगुआई करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई को पुणे पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में लिया। उनपर कुछ दिनों पहले ससून हॉस्पिटल के सीनियर डॉक्टर अजय चंदनवाले पर धोखाधड़ी के फर्जी आरोप लगाने और एक डॉक्टर संग मारपीट का आरोप है। हिरासत में ली गई तृप्ति को पूछताछ के बाद जाने दिया गया।

क्या है तृप्ति का आरोप?
- सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई का आरोप है कि फर्जी विकलांग प्रमाणपत्र के जरिए डॉक्टर अजय चंदनवाले ने डीन का पद हासिल किया है। उन्होंने चंदनवाले पर सरकार संग सांठगांठ कर दिव्यांगों के साथ धोखाधड़ी का भी आरोप लगाया है। उन्होंने सीएम से मामले की जांच करवा कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। मांगे न मानने की सूरत में तृप्ति ने डॉक्टर चंदनवाले के चेहरे पर कालिख पोतने और उनके ऑफिस में ताला लगाने की धमकी दी थी।

एक डॉक्टर पर कालिख पोतने का किया था प्रयास
- बुधवार को तृप्ति ने हॉस्पिटल के एक डॉक्टर संग हाथापाई और उनके चेहरे पर कालिख पोतने के प्रयास भी किया था जिसके बाद उनके खिलाफ पुणे के बंडगार्डन पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज केस दर्ज किया गया था। पुलिस ने तृप्ति को उनके घर से हिरासत में लिया था।

कौन हैं तृप्ति देसाई ?