--Advertisement--

99 साल के आध्यात्मिक गुरु दादा वासवानी का पुणे में निधन, शाकाहार को बढ़ावा देने के लिए चला रहे थे मुहिम

दादा वासवानी का पूरा नाम जशन पहलराज वासवानी था, उनका जन्म हैदराबाद में 2 अगस्त 1918 को हुआ था

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 07:01 PM IST
दादा वासवानी ने 150 से ज्यादा कि दादा वासवानी ने 150 से ज्यादा कि

पुणे. साधु वासवानी मिशन के प्रमुख दादा वासवानी का गुरुवार सुबह पुणे में निधन हो गया। वे 99 साल के थे। कुछ समय से बीमार थे। उनका पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए पुणे के साधु वासवानी मिशन में रखा गया है। दादा शाकाहार को बढ़ावा देने और पशुओं के सरंक्षण के लिए मुहिम चला रहे थे। उन्होंने 150 से ज्यादा किताबें लिखीं।


दादा वासवानी का पूरा नाम जशन पहलराज वासवानी था। उनका जन्म पाकिस्तान के हैदराबाद में 2 अगस्त 1918 को हुआ था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दादा के 99वें जन्मदिन पर वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिए शुभकामनाएं दी थीं। इस दौरान मोदी ने बताया कि दादा से उनकी पहली मुलाकात संयुक्‍त राष्‍ट्र के विश्‍व धार्मिक सम्‍मेलन में 27 साल पहले हुई थी।