--Advertisement--

साइंस ग्रैजुएट की बनाई तंदूरी चाय हुई हिट, अब 13 राज्यों में चेन खोलने की प्लानिंग

इस खास चाय को इजाद किया है पुणे के रहने वाले 29 वर्षीय बीएससी ग्रैजुएट अमोल दिलीप राजदेव ने।

Danik Bhaskar | May 26, 2018, 08:01 PM IST

पुणे. तंदूरी रोटी या तंदूरी चिकन के बारे में आपने सुना ही होगा लेकिन पुणे में 'चाय ला' नाम के रेस्टोरेंट में मिलती है तंदूरी चाय। सिर्फ 20 रुपए में मिलने वाली तंदूरी स्मोक फ्लेवर की इस चाय ने कुछ ही समय में लोगों को अपना दीवाना बना दिया है। इस खास चाय को इजाद किया है पुणे के रहने वाले 29 वर्षीय बीएससी ग्रैजुएट अमोल दिलीप राजदेव और उनके कजिन ब्रदर प्रमोद बानकर ने। सिर्फ दो महीने में पॉपुलर हुई इस चाय की चेन देश के 13 राज्यों में खोलने की प्लानिंग दोनों कर रहे।

ऐसे बनती है तंदूरी चाय
- पुणे के रहने वाले अमोल और प्रमोद बानकर का शहर के खराड़ी इलाके में 'चाय ला, द तंदूर टी' नाम से एक छोटा सा रेस्टोरेंट है। इसी रेस्टोरेंट में बनती है खास तंदूरी चाय।
- दैनिक भास्कर से बात करते हुए अमोल ने बताया, "इस चाय को बनाने के लिए एक खास प्रोसेस से गुजरना होता है। बनाने की एक अनोखी प्रक्रिया है। पहले एक पहले से गर्म किए गए तंदूर में मिट्टी के कुल्हड़ को गर्म करते हैं। इसके बाद आधी पकी हुई चाय को गर्म कुल्हड़ में डालते हैं। इससे चाय के बुलबुले बनने लगते हैं और वह उबालकर कुल्हड़ से बाहर निकलने लगती है। इस तरह से बनी चाय में स्मोक फ्लेवर आ जाता है।"

चाय का करवाया पेटेंट

- प्रमोद ने बताया,"कुछ ही दिनों में पॉपुलर हुई 'चाय ला' की तंदूर चाय का ट्रेडमार्क और पेटेंट की प्रक्रिया लगभग फाइनल लेवल पर है। जल्द ही मेरे हाथ में पेटेंट सर्टिफिकेट होगा।"

- प्रमोद के मुताबिक, कामकाजी दिनों में वे दिनभर में तकरीबन 1200 चाय और वीकेंड में 2000 चाय बेच लेते हैं।

कुछ ही दिनों में बनाया अपना मार्केट

- प्रमोद बानकर और अमोल ने 'चाय ला' की शुरुआत मार्च 2018 में की थी और सिर्फ दो महीने में इसने अपना मार्केट बना लिया है। डिमांड के आधार पर 'चाय ला' में तंदूरी चाय के साथ-साथ 20 अन्य तरह के पेय पदार्थों को भी बेचा जाता है। इसमें तंदूर चाय, तंदूर कॉफी, ब्लैक कॉफी, मसाला चाय, नींबू चाय, ब्लैक टी, अदरक चाय और हल्दी वाला दूध शामिल है।

- लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए यहां चाय के साथ स्नैक्स भी मिलता है। यहां मिलने वाला बन मस्का और बन जाम भी काफी फेमस है।

ऐसे आया 'तंदूरी चाय' का आइडिया
- 'चाय ला' के अलावा अमोल पुणे में एक महाराष्ट्रियन रेस्टोरेंट भी चलाते हैं। 'चाय ला' सुबह 6 बजे से शुरू हो जाता है और देर रात 11 बजे तक चलता है।
- अमोल ने बताया,"साल 2017 की सर्दियों में एक दिन मुझे कफ और कोल्ड हो गया। मैं घर के आंगन में जल रही आग सेंक रहे थे और नानी मेरे लिए हल्दी दूध लेकर आईं। दूध देने से पहले उन्होंने एक कुल्हड़ को उसी आग में गर्म किया और फिर उसी कुल्हड़ में हल्दी-दूध डाल कर मुझे दे दिया। स्मोक के कारण दूध का फ्लेवर बिल्कुल चेंज हो गया था। वह बहुत टेस्टी लग रहा था। यहीं मुझे इस तरह की चाय बनाने का आइडिया आया।"
- अमोल ने इसके बाद तंदूरी चाय बनाने का प्रयास शुरू किया। अमोल और उनके भाई प्रमोद बानकर ने तकरीबन 6 महीने तक एक्सपेरीमेंट किया और मार्च 2018 में यह चाय बनकर तैयार हुई।

सामने आई कुछ दिक्कतें भी
- तंदूरी चाय को फाइनल रूप तक पहुंचाने में अमोल और प्रमोद को कुछ दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा। सबसे बड़ी परेशानी थी पुणे से बड़े शहर में कुल्हड़ों का इंतजाम करना। काफी खोजने के बाद आखिरकार उन्हें एक खास तरह के कुल्हड़ मिले।

कई राज्यों में चेन खोलने की प्लानिंग
- सिर्फ दो महीने में फेमस हुई 'तंदूरी चाय; के बाद अब दोनों इसकी चेन देश के कई राज्यों में खोलने की प्लानिंग कर रहे हैं।
- अमोल ने बताया, "मेरे पास 13 राज्यों और कई देशों से आने वाले लोगों ने 'चाय ला' की चेन खोलने को लेकर अप्रोच किया है। फिलहाल हम चेन खोलने के प्रोसेस की प्लानिंग कर रहे हैं।"

29 वर्षीय बीएससी ग्रैजुएट अमोल दिलीप राजदेव और उनके कजिन ब्रदर प्रमोद बानकर ने मिलकर यह तंदूरी चाय का कांसेप्ट शुरू किया है। 29 वर्षीय बीएससी ग्रैजुएट अमोल दिलीप राजदेव और उनके कजिन ब्रदर प्रमोद बानकर ने मिलकर यह तंदूरी चाय का कांसेप्ट शुरू किया है।
पुणे के खराड़ी इलाके में मौजूद है यह रेस्टोरेंट। पुणे के खराड़ी इलाके में मौजूद है यह रेस्टोरेंट।
चाय बनाने के प्रोसेस में 10 से 15 मिनट का समय लगता है। चाय बनाने के प्रोसेस में 10 से 15 मिनट का समय लगता है।
तंदूरी चाय की कीमत तकरीबन 20 रुपए है। तंदूरी चाय की कीमत तकरीबन 20 रुपए है।
अमोल के मुताबिक वह दिनभर में तकरीबन 12 सौ चाय बेच लेते हैं। अमोल के मुताबिक वह दिनभर में तकरीबन 12 सौ चाय बेच लेते हैं।
तंदूरी चाय को खास तरह के कुल्हड़ में सर्व किया जाता है। तंदूरी चाय को खास तरह के कुल्हड़ में सर्व किया जाता है।
खोलते हुए कुल्हड़ में चाय डालने के बाद उसमें से बुलबुले और स्मोक फ्लेवर मिलता है। खोलते हुए कुल्हड़ में चाय डालने के बाद उसमें से बुलबुले और स्मोक फ्लेवर मिलता है।