Hindi News »Maharashtra »Pune »News» Udhav Thakchrey And Amit Shah Meeting Update.

उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे

शिवसेना और भाजपा के बीच पिछले साल से रिश्ते खराब हैं। उसने 2019 का आम चुनाव अकेले लड़ने का एलान किया है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 07, 2018, 11:51 AM IST

  • उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे
    +4और स्लाइड देखें

    • अमित शाह ने कहा- केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद उद्धव से उनकी पांचवीं मुलाकात
    • शाह ने माधुरी दीक्षित को राज्यसभा सदस्य बनने का प्रस्ताव दिया- सूत्र

    मुंबई.उद्धव ठाकरे और अमित शाह की मीटिंग पर गुरुवार को शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा कि हम जानते हैं कि उनका (अमित शाह) एजेंडा क्या है, लेकिन शिवसेना ने 2019 में अकेले चुनाव लड़ने का प्रस्ताव पास किया है। इसमें कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। शाह ने बुधवार की शाम को उद्धव से मिलने के पहले भरोसा जताया कि भाजपा और शिवसेना अगला लोकसभा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगी। शाह की इस कोशिश को दोनों पार्टियों के बीच बढ़ती दूरी को कम करने के तौर पर देखा जा रहा है। इससे पहले भी शिवसेना की ओर से 2019 का चुनाव अकेले लड़ने की बात कही गई थी।

    शिवसेना अपने दम पर लड़ेगी लोकसभा चुनाव
    - उद्धव ठाकरे और अमित शाह की बुधवार को हुई मुलाकात के बाद शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने फिर एक बार दोहराया कि शिवसेना अपने दम पर 2019 का चुनाव लड़ेगी।
    - संजय राउत ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा,"कल अमित शाह जी मातोश्री आए थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष और शिवसेना प्रमुख में तकरीबन पौने दो घंटे तक बहुत से विषयों पर काफी अच्छी चर्चा हुई। अमित जी ने कहा कि हम फिर एक बार मिलेंगे। इसके सिवाय मेरे पास आपको उस मीटिंग के बारे में कुछ और बताने के लिए नहीं है।"
    - "आज शाम को पालघर में उद्धव ठाकरे साहब जाएंगे, वहां उनकी रैली भी है। शायद रैली में वह अपनी बात रख सकते हैं। हमें अमित जी का एजेंडा मालूम है। शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने एक रेजोल्यूशन पास किया है। इसके मुताबिक आने वाले सभी चुनाव हम अकेले लड़ेंगे। उस रेजोल्यूशन में कोई बदलाव नहीं आएगा।"

    'सामना' में लिखा गया- हर हाल में चुनाव जीतना चाहती है भाजपा

    - सामना की बुधवार की संपादकीय में शिवसेना ने लिखा कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े हुए हैं, किसान सड़क पर हैं, इसके बावजूद भाजपा चुनाव जीतना चाहती है। जिस तरह भाजपा ने साम, दाम, दंड, भेद के जरिए पालघर का चुनाव जीता उसी तरह भाजपा किसानों की हड़ताल को खत्म करना चाहती है। चुनाव जीतने की शाह की जिद को हम सलाम करते हैं।

    शिवसेना ने लिखा-अब बहुत देर हो गई है
    - इस संपादकीय में कहा गया, "एक ओर जहां मोदी पूरी दुनिया में घूम रहे हैं, वहीं शाह पूरे देश में घूम रहे हैं। भाजपा को उपचुनावों में हार मिली है, क्या इसलिए अब उसने सहयोगी पार्टियों से मिलना शुरू कर दिया है। भले ही अब वह करीब आने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन, लेकिन अब बहुत देर हो चुकी है। तेलेगु देशम पार्टी के चीफ चंद्रबाबू नायडू एनडीए छोड़ गए। उधर जदयू चीफ और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी अलग बयान दे रहे हैं। भाजपा का जनता से संपर्क लगातार टूटता जा रहा है।

    - शिवसेना का कहना है कि अगर भाजपा राम मंदिर बनाती है तो 350 सीटें जीत सकती है।

    2014 में क्या स्थिति थी

    - महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीटें हैं। 2014 में इनमें से भाजपा को 23 और शिवसेना को 18 सीटें मिली थीं। राकांपा को 4, कांग्रेस को 2 और अन्य के खाते में एक सीट गई थी।

    लता के न मिलने के पीछे प्रोटोकॉल बताई जा रही वजह

    - सूत्रों का कहना है कि अमित शाह ने बॉलीवुड की हस्तियों से मुलाकात का वक्त तय करते वक्त प्रोटोकॉल का ध्यान नहीं रखा। वे माधुरी दीक्षित से पहले मिले, इसके बाद भारत रत्न लता से मिलने वाले थे। इसी वजह से उन्होंने शाह से मुलाकात ऐन मौके पर रद्द कर दी। हालांकि, लता मंगेशकर की ओर से ट्वीट करके कहा गया है कि उन्हें डीहाइड्रेशन है।

    - लता ने भाजपा नेताओं से फोन करके कहा कि अमित शाह अगली बार जब मुंबई आएंगे तब निश्चित ही वह उनसे मिलेंगी।

    शरद पवार ने कहा था- फिलहाल देश में 1977 जैसे हालात

    - राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने मंगलवार को कहा था, "देश में 1977 जैसे हालात हैं, जब विपक्षी दलों के गठबंधन ने इंदिरा गांधी को सत्ता से बेदखल कर दिया था। पहले भी ऐसा होता रहा है, जब-जब उपचुनावों में मिली हार का नतीजा उस समय की मौजूदा सरकार की हार के रूप में निकला।"

    - उन्होंने कहा कि राज्यों में मजबूत मौजूदगी रखने वाले दलों जैसे कि केरल में लेफ्ट, कर्नाटक में जेडीएस, गुजरात, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और महाराष्ट्र में कांग्रेस, आंध्र प्रदेश में टीडीपी, तेलंगाना में टीआरएस, पश्चिम बंगाल में टीएमसी और महाराष्ट्र में एनसीपी को एक आम सहमति बनाने की जरूरत है।"

    - उन्होंने शिवसेना को साथ आने का ऑफर दिया है।

  • उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे
    +4और स्लाइड देखें
    महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीटें हैं। 2014 में इनमें से भाजपा को 23 और शिवसेना को 18 सीटें मिली थीं। (फाइल)
  • उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे
    +4और स्लाइड देखें
    लता मंगेशकर ने भाजपा नेताओं को फोन करके अपनी सेहत ठीक नहीं होने की जानकारी दी। -फाइल
  • उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे
    +4और स्लाइड देखें
    अमित शाह माधुरी और उनके पति पति श्रीराम नेने से मिलने उनके घर पहुंचे। इस दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी मौजूद थे।
  • उद्धव-शाह की बैठक पर शिवसेना ने कहा- हमें पता है भाजपा का एजेंडा क्या है, चुनाव हम अकेले लड़ेंगे
    +4और स्लाइड देखें
    शिवसेना का कहना है कि अगर बीजेपी राम मंदिर बनाती है तो 350 सीटें जीत सकती है। (फाइल)
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×