Hindi News »Maharashtra »Pune »News» जब अकाउंट से पैसे निकालने बैंक पहुंची डेड बॉडी When The Dead Body Reached To Bank To Withdraw Money

जब अकाउंट से पैसे निकालने बैंक पहुंची डेड बॉडी

परिवार लगाता रहा गुहार, बैंक अधिकारी देते रहे नियमों का हवाला और फिर एक दिन उसकी मौत हो गई।

Dainik Bhaskar | Last Modified - Apr 22, 2018, 02:48 PM IST

जब अकाउंट से पैसे निकालने बैंक पहुंची डेड बॉडी

मुंबई: बैंक के नियमों के कारण अपने पैसे निकालने एक लाश को बैंक जाना पड़ा। मामला मुंबई के उल्हासनगर का है। यहां एक परिवार अपने सदस्य की डेड बॉडी को लेकर पंजाब नेशनल बैंक की उल्हासनगर ब्रांच पहुंचा परिवार की मांग थी कि वे उनके परिवार का सदस्य, जिसकी मौत हो चुकी है, उसके अकाउंट से पैसे निकाल कर उन्हें सौंपे। आइए बताते हैं क्या है पूरा मामला...


- खाताधारक गणेश कांबले को दिसंबर 2017 में लकवा की शिकायत होने के बाद केईएम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।
- दिसंबर से ही उसका परिवार पैसे निकालने के लिए बैंक के चक्कर लगा रहा था।
- परिवार ने बताया कि गणेश के अकाउंट में 25,000 रुपए हैं, जिसे निकालने के लिए वे बैंक में गुहार लगा रहे थे।
- उन्हें इलाज के लिए पैसों की सख्त जरुरत थी और गणेश भी बैंक आने में सक्षम नहीं था।
- बैंक अधिकारियों ने परिवार को नियमों का हवाला देते हुए कहा कि कांबले का पर्सनल अकाउंट है और उसके बिना कोई और उसके खाते से पैसे नहीं निकाल सकता।

परिवार ने दिखाया सबूत लेकिन बैंक ने नहीं की मदद

- कांबले की बहन महानंदा यादव ने बताया, मेरे माता-पिता हर रोज हॉस्पिटल जाते और इस दौरान ही उन्हें बैंक भी जाना पड़ता था।
- बैंक अधिकारियों से लाख गुजारिश के बावजूद भी वे कहते रहे कि खाताधारक के साइन के बिना इस संभव नहीं।
- मेरा भाई हॉस्पिटल के बिस्तर पर बेहोश पड़ा था। फिर भी वे कहते कि साइन कराकर लाओ।
- हमने अपने भाई की फोटो क्लिक करके भी बैंक अधिकारियों को दिखाई, फिर उन्होंने कहा कि वे साइन कराने हॉस्पिटल आएंगे। लेकिन वे सब हॉस्पिटल नहीं आए।
- महानंदा ने बताया कि इसके लिए पापा एक बार फिर बैंक गए लेकिन बैंक से कोई नहीं आया। फिर भाई की मौत हो गई।


बैंक अधिकारियों को साइन चाहिए, इसलिए लाए डेड बॉडी- महानंदा

- जब भाई की मौत हो गई तो हम डेड बॉडी लेकर बैंक आए हैं।
- ताकि बैंक अधिकारी ये देख सके कि वे समय पर हमें पैसे दे देते तो हम अपने भाई के लिए कुछ कर सकते थे।

बैंक ने क्या कहा

-उल्हासनगर पीएनबी ब्रांच के अधिकारी सोमनाथ सरोडे ने कहा, जिसका अकाउंट है उसके अलावा हम किसी को पैसे नहीं दे सकते हैं।
- उन्होंने कहा कि मानवता के लिहाज से हमने उन्हें कहा कि हम उससे मिलने अस्पताल तक जा सकते हैं लेकिन उसी दिन उसकी मौत हो गई।
- उसकी मौत के बाद हमने उसकी नॉमिनी की लिस्ट निकाली है और उसके पैसों को उसके परिवार को सौंप दिया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×