• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Agar
  • अंत्योदय मेले में भीड़ तो जुटाई पर भोजन के लिए छीना झपटी, पानी के लिए भटकते रहे लोग
--Advertisement--

अंत्योदय मेले में भीड़ तो जुटाई पर भोजन के लिए छीना-झपटी, पानी के लिए भटकते रहे लोग

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 04:10 AM IST

Agar News - भास्कर संवाददाता | आगर मालवा बैजनाथ महादेव मेला परिसर में मंगलवार से शुरू हुए तीन दिनी जिला कृषि विज्ञान मेले के...

अंत्योदय मेले में भीड़ तो जुटाई पर भोजन के लिए छीना-झपटी, पानी के लिए भटकते रहे लोग
भास्कर संवाददाता | आगर मालवा

बैजनाथ महादेव मेला परिसर में मंगलवार से शुरू हुए तीन दिनी जिला कृषि विज्ञान मेले के पहले दिन अफसरों की अदूरदर्शिता व ठीक से प्रचार न होने से जमकर किरकिरी हुई। दूसरे दिन बुधवार को उसी स्थान पर अंत्योदय मेला आगर-बड़ौद का आयोजन किया गया। मेले में योजनाओ का लाभ लेने वाले हितग्राहियों के आने से भीड़ तो जुटी, लेकिन अव्यवस्था फिर भी दिखी। करीब दो घंटे तक पंडाल में पीने का पानी खत्म हो जाने से महिलाएं व बच्चे परेशान हुएे। सुबह से गांव से आए लोगों को दोपहर तक खाना नसीब नहीं हुआ। पहली बार में भोजन के पैकेट कम आए। आधे घंटे बाद दूसरी बार भोजन आया तो कम पैकेट देख छीना-झपटी की स्थिति बन गई। अपने साथ आए लोगों को भोजन नहीं मिलने से नाराज हुए कुछ सरपंच-सचिवों की कृषि उपसंचालक आरपी कनेरिया से बहस भी हुई।

मेले में अतिथि के रूप में विधायक गोपाल परमार, कलेक्टर अजय गुप्ता, जिपं अध्यक्ष कलाबाई गुहाटिया, सीईओ राजेश शुक्ल आदि मंचासीन रहे। विधायक परमार ने मालवी में लोगों को संबोधित किया।

सरंपच-सचिवों की डीडीए के बीच तीखी बहस

बताते हैं कि दूसरी बार जब पैकेट आए तो वह भी काफी कम थे। कम पैकेट देख लोग छीना-झपटी करने लगे। कई लोग अपने ग्राम पंचायत के सचिव व रोजगार सहायकों पर नाराज होने लगे। उनका कहना था कि तुम्हारे कहने पर हम कार्यक्रम में आए, लेकिन अभी तक भोजन के पते नहीं है। इसके बाद कुछ सरपंच व सचिव डीडीए कनेरिया के पास पहंुचे और उनसे कहने लगे यदि भोजन वितरण की जवाबदारी सचिवों व रोजगार सहायकों को दी जाती तो यह अव्यवस्था नहीं होती। जो लोग हमारे साथ आए हंै उन्हें भोजन नहीं मिला। वे हम पर नाराज हो रहे हैं। मामले में कुछ सरपंचों की डीडीए से बहस भी हुई। बता दें मंगलवार को शुभारम्भ समारोह में कुल 44 किसान पहुंचे थे। कृषि विभाग के अधिकारी 4 हजार लोगों का खाना बनवाने का दावा कर रहे थे। कहां-कहां खाना बांटा गया, इसकी जानकारी के लिए डीडीए से बात करना चाही तो चर्चा नहीं हो सकी।

अंत्योदय मेले में भोजन पैकेट के लिए छीना-झपटी करते लोग।

पंडाल में खत्म हुआ पानी

कार्यक्रम स्थल के पास टेबलों पर पानी के कैंपर रखे थे, लेकिन पानी पीने के लिए मग या गिलास तक नहीं था। कार्यक्रम शुरू होने के कुछ देर बाद पानी खत्म हो गया। पानी खत्म हो जाने पर महिलाएं बच्चे व ग्रामीण बार-बार वहां आकर कैंपरों में पानी ढूंढते रहे। कई महिलाएं दूर खड़े टैंकर व बैजनाथ महादेव गई। पानी की बोतल लेकर जब काफी देर बाद लोडिंग वाहन आया तो पानी पीने वालों की भीड़ लग गई।

फिर कम पड़ा भोजन

कार्यक्रम समाप्ति के बाद करीब 2.45 बजे भोजन पैकेट बुलवाए गए। पैकेट मौजूद लोगों के मान से काफी कम थे। इस कारण कई लोगों को पैकेट नहीं मिल पाए। सूत्र बताते हैं भोजन सप्लायर व कृषि विभाग के अधिकारियों की भोजन कम होने की बात पर तीखी बहस भी हुई। सप्लायर ने मोबाइल पर अधिकारियों से कह दिया कि मैंने तीन हजार पैकेट पहुचाए हैं, जिस पर अधिकारियों ने कहा यहां तीन हजार तो संख्या ही नहीं है। पैकेट और पहुचाओ।

X
अंत्योदय मेले में भीड़ तो जुटाई पर भोजन के लिए छीना-झपटी, पानी के लिए भटकते रहे लोग
Astrology

Recommended

Click to listen..