Hindi News »Madhya Pradesh »Ambah» गांव के स्कूलों का रिजल्ट 91%, शहरों के स्कूलों का परिणाम 48% पर अटका

गांव के स्कूलों का रिजल्ट 91%, शहरों के स्कूलों का परिणाम 48% पर अटका

शहर के ज्यादातर स्कूलों में निर्धारित से अधिक शिक्षक, विषय विशेषज्ञ फिर भी हालत बदतर एमएलबी गर्ल्स हाईस्कूल का...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:10 AM IST

गांव के स्कूलों का रिजल्ट 91%, शहरों के स्कूलों का परिणाम 48% पर अटका
शहर के ज्यादातर स्कूलों में निर्धारित से अधिक शिक्षक, विषय विशेषज्ञ फिर भी हालत बदतर

एमएलबी गर्ल्स हाईस्कूल का रिजल्ट में सभी सुविधाएं। इसके बाद भी रिजल्ट 41 फीसदी ही रहा।

बैठने को पर्याप्त कक्षाएं भी नहीं फिर भी शहरों से आगे

जींगनी क्षेत्र में देवलाल का पुरा हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम 91.3 फीसदी रहा है। इस स्कूल में 2011 से अंग्रेजी, गणित, सोशल साइंस व संस्कृत विषय के शिक्षक पदस्थ नहीं हैं। इसके बाद भी इन चारों विषयों में छात्रों ने प्रथम श्रेणी के अंक प्राप्त किए हैं। प्राचार्य रामबिलास सोलंकी का कहना है कि बीते वर्ष तो अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति भी नौ सितंबर को हुई थी। लेकिन बच्चों ने मेहनत की तो रिजल्ट अच्छा रहा।

हिंगौना खुर्द हाईस्कूल का रिजल्ट 87.5 फीसदी रहा है। इस स्कूल में बिल्डिंग के नाम पर मात्र तीन अतिरिक्त कक्ष उपलब्ध हैं। वह भी छात्रों को बैठने के लिए नहीं बल्कि लाइब्रेरी, लैब व क्राफ्ट विषय का सामान रखने के लिए दिए गए हैं। लैब में प्रयोग कराने के लिए लैब सहायक तक पदस्थ नहीं हैं। फिर भी 2007 में स्थापित हुए इस स्कूल का परीक्षा परिणाम, शहर के स्कूलों के लिए एक नजीर है।

नूराबाद गर्ल्स हाईस्कूल के पास बिल्डिंग तक नहीं है। लेकिन सुविधा व संसाधनों को ताक पर रखकर बेटियों ने ऐसी पढ़ाई की है कि रिजल्ट 76 फीसदी तक जा पहुंचा। इस बार यहां का परीक्षा परिणाम 2016-17 की तुलना में पांच फीसदी अधिक है। प्राचार्य सुनीता वार्ष्णय के मुताबिक, स्कूल में अंग्रेजी विषय का शिक्षक नहीं होने के बाद भी छात्राओं ने बोर्ड परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया है।

सुरजनपुर के हाईस्कूल में हिन्दी विषय का शिक्षक पदस्थ नहीं है। स्कूल में बिजली तक की सुविधा नहीं है। उसके बाद ग्रामीण क्षेत्र के इस स्कूल का रिजल्ट 71 प्रतिशत रहा है। निटहरा का 76 प्रतिशत, मुरैना गांव का 74 फीसदी रिजल्ट रहा है। जारह हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम भी 71 फीसदी रहा है।

शहरों में हर सुविधा फिर भी रिजल्ट लगातार गिर रहा

पढ़ाई के लिए कभी नामचीन रहा शहर का जीडी जैन हायर सेकंडरी स्कूल इस बार बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट में पिछड़ गया है। हायर सेकंडरी का रिजल्ट 42 फीसदी व हाईस्कूल का परिणाम 43 फीसदी ही रहा है। जबकि इस स्कूल में पर्याप्त शिक्षक हैं। विषय विशेषज्ञ भी हैं। शहर के एमएलबी गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट इस बार 41 फीसदी रहा है। हाईस्कूल का परीक्षा परिणाम बीते साल से भी नीचे जाकर 37 फीसदी रह गया है। जबकि इस स्कूल में टीचिंग के लिए पर्याप्त स्टाफ पदस्थ है। अंबाह के बालक हाईस्कूल का रिजल्ट 39.53 प्रतिशत रहा है। बानमोर के हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट 38 फीसदी व हाईस्कूल का परिणाम 48 प्रतिशत रहा है।

पांच विषयों के टीचर तीन साल से नहीं

महारानी लक्ष्मी बाई गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल में अध्यापन के लिए अंग्रेजी, गणित, सामाजिक अध्ययन, जीवशास्त्र व कॉमर्स विषय के शिक्षक बीते तीन साल से पदस्थ नहीं हैं। इस कारण इंटर व हाईस्कूल का रिजल्ट कमजोर रहा है। बीआर दोनेरिया, प्राचार्य एमएलबी गर्ल्स स्कूल

रिजल्ट क्यों खराब रहा ये तो प्रशासन को बताएंगे

शासकीय जीडी जैन हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट इस साल क्यूं खराब रहा ये तो हम प्रशासन को बताएंगे। हमारे यहां विषयवार टीचर्स की कोई कमी नहीं है। लेकिन परीक्षा परिणाम पर कोई चर्चा नहीं करेंगे। रामजीलाल मौर्य, प्राचार्य जीडी जैन स्कूल

बाहर से आने वालों पर रोक लगना चाहिए क्योंकि यही रिजल्ट बिगाड़ते हैं

नकल के सहारे पास होने के लिए जो छात्र बाहर से मुरैना जिले में आते हैं, उनके प्रवेश पर रोक लगना चाहिए। इस बार रिजल्ट गिरने का मुख्य कारण यही रहा है। हायर सेकंडरी स्कूलों में कक्षाएं नियमित लगाने के कड़े प्रयास होने चाहिए। टीचर्स भी छात्र-छात्राओं की शैक्षणिक स्थिति पर नजर रखें। जिन स्कूलों में शिक्षकों की कमी है वहां पदस्थापना सुनिश्चित की जाना जरूरी है। स्कूलों के ग्रेडिंग सिस्टम को और अपडेट किया जाना चाहिए। गोपाल सिंह परमार, प्राचार्य एक्सीलेंस स्कूल

एक्सपर्ट व्यू

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambah

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×