145 किलो चांदी के रथ पर आज नगर भ्रमण करेंगे भगवान

Ashoknagar News - दिगंबर जैन समाज पर्युषण पर्व के समापन पर 14 और 15 सितम्बर को शोभायात्रा निकालेगी। इस बार भगवान को प्रदेश के पहले रजत...

Sep 14, 2019, 06:42 AM IST
दिगंबर जैन समाज पर्युषण पर्व के समापन पर 14 और 15 सितम्बर को शोभायात्रा निकालेगी। इस बार भगवान को प्रदेश के पहले रजत रथ पर विराजमान कर नगर भ्रमण कराया जाएगा। यह रथ 75 लाख रुपए की लागत से 145 किलो चांदी से राजस्थान के कारीगरों ने तैयार किया है। पर्व के समापन पर शुक्रवार को क्षमा वाणी पर्व दिगंबर जैन मंदिर पर मनाया गया। 14 सितम्बर की रात विराट कवि सम्मेलन भी हाेगा। धर्मसभा को संबोधित करते हुए मुनिश्री प्रशांत सागर महाराज और निर्वेग सागर महाराज ने कहा कि क्रोध के आवेग में व्यक्ति विचार शून्य हो जाता है। विवेक खोकर कुछ भी करने को तैयार हो जाता है। पर्युषण एक ऐसा पर्व है जिसमें हमें आत्मा के विकारी भावों का संशोधन करना है। मान, माया, लोभ आदि भाव हर संसारी प्राणी के साथ लगे हुए हैं, इन्हीं भावों पर विजय पाना और जीवन में क्षमा और समता के लिए स्थान देना आज के क्षमा धर्म का उद्देश्य है।

एक कराेड़ रुपए की लागत तैयार चांदी का रथ, इसमें शीशम व सागौन भी लगाया है।

रथ में दिखेगी भगवान के चित्र

उपाध्यक्ष महेन्द्र कड़ेसरा ने बताया इस रथ की लागत लगभग एक करोड़ रुपए है। इस रथ को शीशम और सागौन की लकड़ी से तैयार किया है। डबल मंजिल के इस रथ में चारों तरफ चांदी के चार इंद्र और भगवान नेमिनाथ की बारात से लेकर वैराग्य और मोक्ष तक का आकर्षक चित्रण रथ के चारों तरफ दिखेगा। चांदी के दो बड़े हाथी व दो मोर भी बने हैं। भगवान को विराजमान करने बीच में पांडुक शिला बनाई है। रथ के पीछे आचार्यश्री विद्यासागर महाराज का चित्र बनाया है और 2016 में शहर में मुनिश्री अभयसागरजी, प्रभात सागर जी, पूज्य सागर जी और 2017 में मुनिश्री समय सागर जी के चातुर्मास का भी इसमें उल्लेख है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना