--Advertisement--

परीक्षार्थी बोले- निरीक्षण दलों से दिक्कत

परीक्षा शुरू होने के बाद से लेकर समय पूरा होने तक कई बार निरीक्षण दल आते हैं। परीक्षार्थी के हिलने भर से ही वह उसकी...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:10 AM IST
परीक्षा शुरू होने के बाद से लेकर समय पूरा होने तक कई बार निरीक्षण दल आते हैं। परीक्षार्थी के हिलने भर से ही वह उसकी चेकिंग शुरू कर देते हैं। इस वजह से समय की बर्बादी के साथ ही मानसिक रूप से भी परेशानी आती है। इस कारण परीक्षार्थियों को पेपर हल करने में परेशानी आ रही है।

यह बातें गुरुवार को हुए कक्षा 12 वीं क्लास के हिंदी के प्रथम पेपर देकर बाहर आए परीक्षार्थियों ने रोलागांव परीक्षा केंद्र पर कहीं। इस बार प्रशासन ने बोर्ड परीक्षाओं में पारदर्शिता लाने के लिए निरीक्षण टीमों का गठन किया गया है। इसमें एक टीम कलेक्टर ने बनाई है, दूसरी शिक्षा विभाग तथा इसके अलावा स्थानीय प्रशासन की ओर से एसडीएम ने 8 दल अलग से बनाए हैं। इसके अलावा एक बीईओ का दल अलग है। इस कारण से कई जगह तो परीक्षा भय मुक्त वातावरण के बीच आयोजित की जा रही है। इसमें दूसरे विभागों के कर्मचारियों को तैनात किया गया है। जो परीक्षा रूम में चेकिंग के नाम पर बच्चों को बार-बार खड़ा करते हैं। इससे उनका समय भी खराब हो रहा है।परीक्षार्थी रवि गुर्जर, राजपाल, हेमंत विश्वकर्मा, रीना जाट ने बताया कि ड्यूटी टीम के अलावा जांच टीम ने भी कई बार परीक्षा देते हुए परीक्षार्थियों को खड़े कर चैक किया जा रहा है। इससे हमारा समय काफी बर्बाद हुआ। वही जांच टीम ने विद्यार्थियों के अंदर भय पैदा किया। परीक्षा डयूटी में शिक्षा विभाग से हटकर भी जिन अधिकारी कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई उनका इस तरह की जानकारी बिल्कुल भी नहीं है कि विद्यार्थियों से किस तरह बात की जाए।

इधर शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि निरीक्षण दल शांति के साथ अपनी कार्रवाई करते हैं। ऐसे में बच्चों को परेशानी नहीं होना चाहिए।

शिकायत

जिला और स्थानीय स्तर पर गठित दल नकल रोकने के लिए कर रहे हैं अचानक निरीक्षण

भयभीत करने वाला वातावरण नहीं बनाएं

परीक्षार्थियों ने मांग की है कि परीक्षार्थियों से भय मुक्त वातावरण में परीक्षा नहीं कराई जाए। क्योंकि जांच दल में अधिकांश शिक्षा विभाग से हटकर अधिकारी कर्मचारी हैं। हालांकि पहले पेपर कोई नकल प्रकरण नहीं बना। इस संबंध में एसडीएम आरआर पांडे का कहना है कि जांच दल को निर्देशित किया जाएगा कि किसी भी परीक्षार्थियों को अनावश्यक रूप से जांच के नाम पर परेशान न करें। वहीं बीईओ नारायण सिंह ठाकुर कहना है कि एसडीएम आरआर पांडे के निर्देश का पालन किया जा रहा है।