• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Ashta
  • 12 साल बाद भी झिकड़ी गांव में खड़े पोलों पर नहीं लगाए गए तार
--Advertisement--

12 साल बाद भी झिकड़ी गांव में खड़े पोलों पर नहीं लगाए गए तार

Ashta News - नपंध्यक्ष को भ्रमण के दौरान ग्रामीणों ने बताई समस्या भास्कर संवाददाता| जावर विकासखंड आष्टा के गांव झिकड़ी...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 02:10 AM IST
12 साल बाद भी झिकड़ी गांव में खड़े पोलों पर नहीं लगाए गए तार
नपंध्यक्ष को भ्रमण के दौरान ग्रामीणों ने बताई समस्या

भास्कर संवाददाता| जावर

विकासखंड आष्टा के गांव झिकड़ी में बिजली कंपनी ने 12 साल पहले पोल लगाए थे, लेकिन अभी तक उनसे बिजली की सप्लाई चालू नहीं की गई है। इस वजह से ग्रामीण हजार मीटर दूर से बिजली तार की व्यवस्था की है। इस कारण उन्हें काफी परेशानी होती है।

यह बातें झिकड़ी गांव के लोगों ने पिछले दिनों नगर परिषद अध्यक्ष शैलेष कुमार वैद्य से गांव भ्रमण के दौरान ग्रामीणों ने कहीं। इस अवसर पर ग्राम वासियों ने बताया कि आज तक हमारे गांव में बिजली नहीं है। लगभग 12 वर्ष पूर्व बिजली के पोल गाढ़ दिए गए थे। जिन पर तार आज तक नहीं लगाए गए हैं। हम लगभग एक हजार मीटर से तार खींचकर लाए हैं। तब कहीं जाकर बिजली का उपयोग कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में दुर्घटनाओं की संभावनाएं बनी रहती है। गरीब तबके के लोग तो रोशनी की तलाश में अंधकार में अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने बताया की हमारे द्वारा बिजली के बिलों का भुगतान भी किया जाता है परंतु सुविधाओं का विस्तार नहीं होने के कारण हम परेशान हैं। ग्रामवासियों ने यह भी बताया की हमारे गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ भी समुचित नहीं मिला है। इसके तहत कोई मकान बना है। उन्होंने कहा कि देवांचल पर्वत से सिमटा गांव झिकड़ी में जंगली जानवरों का आतंक भी रहता है तथा अंधकार के कारण उन्हें खतरा बना रहता है।

नपंध्यक्ष श्री वैद्य ने शासन और प्रशासन से मांग की है कि ग्रामवासियों की मुख्य समस्या विद्युत वितरण व्यवस्था में समुचित सुधार करवाया जाए।

इस अवसर पर राम सिंह ठाकुर, हबीब मंसूरी, बाबूलाल, जितेंद्र मालवीय, बद्रीलाल मालवीय, राजाराम चौरसिया, नरेंद्र सिंह मालवीय, मांगीलाल मालवीय, जीवन सिंह सहित काफी संख्या में ग्रामवासी महिला पुरुष उपस्थित थे।

X
12 साल बाद भी झिकड़ी गांव में खड़े पोलों पर नहीं लगाए गए तार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..