Hindi News »Madhya Pradesh »Ashta» कलेक्टर से किसानों ने कहा- भुगतान में देरी होने से नहीं हो पा रहे जरूरी काम

कलेक्टर से किसानों ने कहा- भुगतान में देरी होने से नहीं हो पा रहे जरूरी काम

बुधवार को कलेक्टर तरूण कुमार पिथोड़े ने कृषि उपज मंडी में 4 समर्थन मूल्य केंद्रों पर चल रही खरीदी का निरीक्षण...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:00 AM IST

बुधवार को कलेक्टर तरूण कुमार पिथोड़े ने कृषि उपज मंडी में 4 समर्थन मूल्य केंद्रों पर चल रही खरीदी का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने किसानों और व्यापारियों की समस्याओं को भी सुना। वहीं तौल कांटों की कमी के कारण आ रही परेशानी को देखते हुए एसडीएम को इनकी की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। समय पर परिवहन नहीं होने से गोदाम में जगह नहीं होने पर उपज को बाहर ही रखा जा रहा है। इससे खरीदी की गति भी धीमी पड़ी है।

बुधवार को कलेक्टर श्री पिथोड़े ने नगर की कृषि उपज मंडी तथा वहां संचालित चार समर्थन केंद्रों का आकस्मिक निरीक्षण किया। खरीदी केंद्र पर उपज तुलाने आए आसपास क्षेत्र के किसानों से रूबरू हुए। इस दौरान किसान डूका निवासी कल्याण सिंह ने कलेक्टर से कहा कि हम किसानों को समय पर भुगतान नहीं मिल पा रहा है। इस कारण हमारे दूसरे काम रूके पड़े हैं। इस पर कलेक्टर श्री पिथोड़े ने एसडीएम आरआर पांडे को निर्देशित किया कि किसानों का भुगतान तत्काल कराए जाएं। साथ ही किसानों को यह भी जानकारी दी कि भुगतान लगातार खातों में डाला जा रहा है। वहीं मंडी में चार उपार्जन केंद्र बनाए गए हैं। यहां पर तौल कांटों की कमी होने के कारण खरीदी काफी धीमी गति से हो रही है। इसे कलेक्टर ने गंभीरता से लेते हुए केंद्र प्रभारी व प्रशासनिक अधिकारियों से कहा कि यहां पर तौल कांटों की संख्या बढ़ाई जाए। जिससे किसानों की उपज समय पर तुल सके।

मंडी के दूसरे खरीदी केंद्र पर गोदाम में से ठेकेदार द्वारा माल परिवहन नहीं करने से गोदाम में उपज रखने की जगह नहीं बची है। इस कारण उपज को खुले में रखी देख कलेक्टर ने ठेकेदार को तलब किया तो उसने बताया कि ट्रांसपोर्टर से वाहन उपलब्ध नहीं हो रहे हैं। इस कारण परिवहन नहीं हो पा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ashta

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×