बाबई

--Advertisement--

साहित्य सृजन कर ऊर्जावान बने: पीसी शर्मा

नर्मदांचल कलमकार संस्थान एवं प्रेस क्लब के संयुक्त तत्वावधान में साहित्य सप्ताह का समापन बाबई के काॅलेज में...

Dainik Bhaskar

Apr 05, 2018, 04:15 AM IST
साहित्य सृजन कर ऊर्जावान बने: पीसी शर्मा
नर्मदांचल कलमकार संस्थान एवं प्रेस क्लब के संयुक्त तत्वावधान में साहित्य सप्ताह का समापन बाबई के काॅलेज में पंडित माखनलाल चतुर्वेदी जयंती पर हुआ। मुख्य वक्ता जिला पंचायत सीईओ पीसी शर्मा ने कहा बचपन से माखन दादा को पढ़ते आ रहा हूं। उन्होंने कहा आप में ऊर्जा है, उत्साह और साहित्य सृजन कर ऊर्जा को सकारात्मक दृष्टि प्रदान कर शीर्ष पर पहुंचकर क्षेत्र का गौरव बनें। दादा माखनलाल चतुर्वेदी ने पत्रकारिता और साहित्य से देव स्वरूप सम्मान प्राप्त किया। शर्मा ने रचनाओं का भी पाठ किया। बेटियों पर केंद्रित कविता पर तालियां बटोरी। शुभारंभ प्राचार्य कामनी जैन, जिपं सीईओ, प्रेस क्लब के राजेंद्र ठाकुर, शैलेंद्र कौरव, पीतांबर जोशी, संजीव खपरे, मुकेश भदौरिया, प्रभारी प्राचार्य आरके चौकीकर आदि ने साहित्य देवता के चित्र पर माल्यार्पण किया। राजेंद्र ठाकुर ने साहित्य सप्ताह की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। अध्यक्षीय उद्बोधन देते हुए प्राचार्य डॉ. कामनी जैन ने कहा बच्चों की भागीदारी से आयोजन सफल हो पाया। डॉ. जैन ने कहा बच्चे सोशल मीडिया से हटकर लाइब्रेरी तक पहुंचे यही इसकी सफलता है। श्री शर्मा का सम्मान किया। संजय गिल्ला, राजकुमार गुप्ता ने डॉ. कामनी जैन का शाल श्रीफल से सम्मान किया।

आयोजन

बाबई कॉलेज में हुआ साहित्य सप्ताह का समापन, शिक्षकों का किया सम्मान

छात्रों ने दी गीत, भाषण की प्रस्तुति

महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने गीत और भाषण की प्रस्तुति दी। ललित एवं वंदना ने गगन पर दो सितारे.., ज्योति और संध्या ने क्या आकाश उतर आया है....रेखा पठारिया ने हम कहते है बुरा न मानो ...,दुर्गा मीना ने अमर निशानी किसकी है...। प्रियांशी दायमा ने मधु मधुर कुछ कहने दो ...संध्या नागवंशी ने छोड़ चले ले तेरी कुटिया ....आदि की सस्वर प्रस्तुति दी। उर्मिल मीना,अंशु सोनी,साक्षी यादव आदि ने पंडित माखनलाल चतुर्वेदी के व्यक्तित्व पर विचार रखे। संचालन शैलेंद्र कौरव ने किया।

नप अध्यक्ष ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया

माखननगर| राष्ट्रकवि पं. माखनलाल चतुर्वेदी की जयंती पर बुधवार सुबह स्मारक पर नप अध्यक्ष ओमप्रकाश उपाध्याय, आकाश तिवारी ने ध्वज फहराकर नमन किया। कांग्रेसियों ने भी पुष्प अर्पित किए। व्यंग्यकार सुरेंद्र पुरोहित ने रचनाएं सुनाई। राजेश तिवारी ने राष्ट्रकवि के संस्मरण सुनाएं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनोज सिंह सोलंकी, कुलदीप मिश्रा, निकुंज ब्रजेश गुरु, कायाकल्प डेरिया, शैलेंद्र गोयल, राजेंद्र बड़गूजर, मुकेश मालवीय, कैलाश भगौरिया, ब्रजभारती बड़गूजर, अरुण तिवारी, प्रदीप जैन, द्वारका चौधरी मौजूद थे।

X
साहित्य सृजन कर ऊर्जावान बने: पीसी शर्मा
Click to listen..