--Advertisement--

भास्कर संवाददाता | इटारसी

भास्कर संवाददाता | इटारसी आदिवासी विकासखंड के 6 बच्चे दुनिया की आवाज को सुन पाएंगे। राष्ट्रीय बाल सुरक्षा...

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 05:10 AM IST
भास्कर संवाददाता | इटारसी

आदिवासी विकासखंड के 6 बच्चे दुनिया की आवाज को सुन पाएंगे। राष्ट्रीय बाल सुरक्षा कार्यक्रम की टीम ने बच्चों की जांच कर कॉकलियर इंप्लांट ऑपरेशन करवाए। एक ऑपरेशन का खर्च ही 6 लाख 50 हजार रुपए आता है। आर बीएसके टीम की डॉ. नेहा दुबे, फार्मासिस्ट नेहा उसरेठे, अर्जुन मीणा, एएनएम शांति उइके और शीला काजले ने सुखतवा और केसला के गांव में जाकर न सुन पाने वाले बच्चों की जांच की। चयन के बाद 6 बच्चों का इलाज करवाया। अब सभी बच्चे सुनने लगे हंै। यह आदिवासी ब्लॉक केसला के बच्चे नानुपुरा, इटारसी, जामुन डोल, बाबई खुर्द के है।

आदिवासी बच्चों को कोचलेअर इम्प्लांट की मदद से जन्म के बाद पहली बार जमाने के शोर को सुना। बच्चों को सुन पाने में सक्षम बनाने के लिए कोचलेअर इम्प्लांट करवाया गया। बच्चों के कान के अंदरूनी हिस्से में एक इलेक्ट्रोड लगाया जाता है। कोचलेअर इम्प्लांट और एक विशेष साॅफ्टवेयर की मदद से धीरे-धीरे ध्वनि को सामान्य स्तर पर लाया गया। बच्चे को धीरे धीरे सभी तरह की आवाजें सुनने में मदद करेगा। बच्चों के लिए डॉक्टरों ने मेहनत की।