--Advertisement--

3 साल में 14 स्कूल मर्ज, 8 स्कूलों में 10 व 27 में 20 से कम विद्यार्थी

माखननगर। आंखमऊ ढोंगापुरा स्कूल। इन स्कूलों में 10 से कम विद्यार्थी 10 से कम दर संख्या वाले स्कूलों में सन्ना...

Dainik Bhaskar

May 06, 2018, 05:15 AM IST
3 साल में 14 स्कूल मर्ज, 8 स्कूलों में 10 व 27 में 20 से कम विद्यार्थी
माखननगर। आंखमऊ ढोंगापुरा स्कूल।

इन स्कूलों में 10 से कम विद्यार्थी

10 से कम दर संख्या वाले स्कूलों में सन्ना टोला बज्जरवाड़ा स्कूल में 7 बच्चे और 2 शिक्षक, जनकपुर में 2 विद्यार्थियों पर 2 शिक्षक, (3) ढोंगापुरा आंखमऊं में 3 बच्चे और 2 शिक्षक, आमखेड़ी में 3 बच्चे और 2 शिक्षक, सिलारीकलां 9 बच्चे और 2 शिक्षक, गाजनपुर में 8 बच्चे और 2 शिक्षक, सोनपुर आलाखेड़ी में 4 बच्चे पर 2 शिक्षक, पांजराखुर्द स्कूल में 8 बच्चों पर दो शिक्षक हैं।

यह कारण आए सामने

स्कूलों में घटती दरसंख्या के निम्न कारण सामने आए। शिक्षा का अधिकार अधिनियम से निजी स्कूलों में प्रवेश, पालकों में बच्चों को शहर में पढ़ाने की होड़, निजी शिक्षण संस्थाओं ने यात्रा सुविधा, ड्रेस कोड सहित अन्य लुभावने आफर, पढ़ाई सहित खेल प्रतियोगिताओं, बेहतर परिणाम से पालकों और बच्चों का निजी स्कूलों पर झुकाव।

यह है नियम

एक स्कूल खोलने के लिए 40 की छात्र दरसंख्या होना अनिवार्य है। स्कूलों की घटती दरसंख्या के मुताबिक देखा जाये तो अब नये स्कूल खुलना तो असंभव सा लगता है। साकोट व जमुनिया स्कूलो में एक-एक शिक्षक है।

10 स्कूल हो चुके मर्ज

2016-17 में मकोड़िया टोला, कन्या सांगाखेड़ा कला, मंगरिया, इजीएस अहारखेड़ा, कन्या आंखमउ, गूजरवाड़ा, मानागांव, जीपीएस नवीन बाबई, चौका घाट और परसापानी विस्थापित आदी स्कूलों को युक्ति युक्त करण के तहत एक ही प्रागंण में लगने वाले 2 स्कूलों को एक कर दिया तो कही दर संख्या शून्य होने पर मर्ज कर दिया गया।

इन स्कूलों को किया मर्ज

विकासखंड के 10 से कम दर संख्या वाले एसबीएस व प्राथमिक स्कूल बाबई को व बछवाड़ा कन्या व बालक को मर्ज कर दो स्कूल कर दिए। वही 5 से मर्ज दर संख्या वाले ढोंगापुरा आंखमउ, सोनपुर आलाखेड़ी, आमखेड़ी व जनपुर के चारों स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी कर दिए हैं।

आदेश जारी हुए


X
3 साल में 14 स्कूल मर्ज, 8 स्कूलों में 10 व 27 में 20 से कम विद्यार्थी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..