बड़वाह

--Advertisement--

खुले में शौच को गया क्लर्क, संदिग्ध अवस्था में मिला शव

पोस्टमार्टम के लिए इंदौर भेजा शव भास्कर संवाददाता | बड़वाह घर के पीछे झाड़ियों में शौच करने गए तहसील के सहायक...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 02:10 AM IST
पोस्टमार्टम के लिए इंदौर भेजा शव

भास्कर संवाददाता | बड़वाह

घर के पीछे झाड़ियों में शौच करने गए तहसील के सहायक ग्रेड तीन क्लर्क कर्मचारी रमेश पिता चंपालाल की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है। पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच में जुटी है।

स्थानीय तहसील कार्यालय में पदस्थ खेड़ीघाट निवासी रमेश पिता चंपालाल चावड़ा (58) शुक्रवार को घर पर शौच का बोलकर गए थे। परिजनों ने बताया कि घर में शौचालय होने के बाद भी वह हमेशा बाहर ही शौच के लिए जाते थो। तीन घंटे तक वापस घर नहीं लौटे तो परिजन ढूंढने निकले। करीब एक किमी दूर निजी स्कूल के पास रमेश संदिग्ध हालत में पड़े थे। शव के पैर और सीने पर छाले के निशान थे। मुंह से फेस भी निकल रहा था। घटना की जानकारी लगते ही एसडीएम मधुवंतराव धुर्वे, एसडीओपी मानसिंग ठाकुर, थाना प्रभारी शशिकांत चौरसिया घटनास्थल पर पहुंचे। एएसआई धनश्याम मालवीय ने शव का पंचनामा बनाकर पोस्टमार्टम के लिए बड़वाह शासकीय अस्पताल भेजा। शव पर निशान होने के कारण शव को पोस्टमार्टम के लिए इंदौर एमवाय अस्पताल भेजा। शनिवार को डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम किया।

दिनभर चला दुर्घटनाओं का सिलसिला

इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर दिनभर सड़क दुर्घटनाओं का सिलसिला चलता रहा। होली का पर्व होने के कारण ट्रैफिक का दबाव भी अधिक था। इंदौर निवासी हिरालाल पिता ज्ञानचंद (31) और लोकेंद्र पिता कैलाश (23) निवासी आशापुर दोनों को अलग-अलग घटनाओं में अज्ञात वाहन चालकों ने टक्कर मार दी। उन्हें 108 वाहन से बड़वाह शासकीय अस्पताल लाए।

पिकनिक मनाने आए युवक की डूबने से मौत

मुसाखेड़ी इंदौर निवासी 30 वर्षीय तरुण पिता सोहनसिंह भदौरिया की नावघाट खेड़ी स्थित नर्मदा नदी में डूबने से मौत हो गई। शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंपा। पुलिस के अनुसार मुसाखेड़ी निवासी तरुण पिता सोहनसिंह भदौरिया (30) अपने दोस्तों के साथ नावघाट खेड़ी स्थित नर्मदा तट पर पिकनिक मनाने आया था। इस दौरान मित्र खाना बना रहे थे। तरुण मोबाइल पर बात करते-करते रेलवे पुल के पास चला गया। इसके बाद तरुण कपड़े निकाल कर नर्मदा में स्नान कर रहा था। तभी अचानक गहरे पानी में चले जाने से वह डूब गया। नाविक शव को बाहर निकाल कर उसकी शिनाख्ती के लिए लोगों से पूछताछ कर रहे थे। वहीं दोस्त उसे खाना खाने के लिए तट के आसपास ढूंढ रहे थे। नाविक सुनील केवट, बाबूलाल मंगले, बजरंग, बलराम केवट ने बताया नर्मदा में पानी कम था लेकिन पत्थरों के टीलों के आसपास गहराई होने के कारण यह नहाते-नहाते उसमें चला गया। जिससे उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी लगते ही पुलिस ने शव का पंचनामा बनाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए बड़वाह शासकीय अस्पताल भेजा। जहां डॉक्टरों ने पीएम बाद शव परिजनों को सौंपा। दोस्तों ने बताया तरुण के दो बच्चे हैं।

X
Click to listen..