बड़वाह

--Advertisement--

श्रवण जिनवाणी श्रवण करने से पापों का होता है समन

श्रवण जिनवाणी श्रवण करने से पापों का होता है समन करही | तीसरा लाभ मांगलिक श्रवण, चौथा लाभ जिनवाणी श्रवण।...

Danik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:10 AM IST
श्रवण जिनवाणी श्रवण करने से पापों का होता है समन

करही |
तीसरा लाभ मांगलिक श्रवण, चौथा लाभ जिनवाणी श्रवण। जिनवाणी एक ऐसी वाणी है जिनका श्रवण करने से कई जन्मों के पापों का समन होता है। ये जिन वाणी संत के मुखारबिंद से त्याग की अवस्था में बैठकर सुनना दुर्लभ है। जैन स्थानक भवन में आयोजित प्रवचन में पूज्य नूतन प्रभा ने बात कही। पूज्य पूर्णिमाजी ने कहा जीव को अपनी आत्मा की कमाई सामयिक अवश्य करनी चाहिए। स्थानक भवन में रोजाना सुबह 9 से 10 बजे तक प्रवचन, नए मांगलिक भवन में दोपहर में ज्ञान चर्चा, शाम को प्रतिक्रमण होगा।

दो मुंह की लांडी को जंगल में छोड़ा - बड़वाह | नर्मदा रोड स्थित पानी फैक्ट्री के पीछे से नीतेश शुक्ला ने दो मुंह की लांडी को युवकों से छुड़ाकर वन विभाग के हवाले किया। 6 युवक दो मुंह की लांडी को पकड़ कर बोरे में भरकर ले जा रहे थे। शुक्ला ने वन विभाग वालों को बुलाने की बात कही तो तीनों लांडी छोड़कर भाग गए।

Click to listen..