• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • शहर में 40 तो गांव में 20 फीसदी लोग ही गैस कनेक्शन का कर रहे उपयोग
--Advertisement--

शहर में 40 तो गांव में 20 फीसदी लोग ही गैस कनेक्शन का कर रहे उपयोग

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्जवला योजना का लाभ ग्रामीण नहीं उठा पा रहे हैं। जबकि उक्त योजना चालू हुए दो साल का...

Danik Bhaskar | Feb 12, 2018, 02:10 AM IST
केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्जवला योजना का लाभ ग्रामीण नहीं उठा पा रहे हैं। जबकि उक्त योजना चालू हुए दो साल का समय हो चुका है। इस योजना के तहत ग्रामीणों सहित नगरीय क्षेत्र में तेजी से गैस कनेक्शन दिए गए। जिन हितग्राहियों को लाभ मिल चुका है वह किसी न किसी कारण से गैस चूल्हा जलाते ही नहीं हैं। आज भी लकड़ी कंडे का उपयोग कर रहे हैं।

गौरतलब है कि गरीब परिवारों की महिलाओं को चूल्हे के धुंए से मुक्ति दिलाने के लिए केंद्र शासन द्वारा 1 मई 2016 को प्रधानमंत्री उज्जवला योजना शुरू की गई थी। जिसके तहत गरीब महिलाओं को निशुल्क एलपीजी गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने के लिए लकड़ी की जगह एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देना है। अधिकांश गांव में लोग प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत कनेक्शन लेने के बावजूद भी लकड़ियां जलाकर मिट्टी के चूल्हे पर ही खाना पका रहे हैं। भास्कर ने जब इसकी पड़ताल की तो इसके कई कारण निकलकर सामने आए। जिसमें प्रमुख रूप से गरीबों के पास गैस भरवाने के लिए पैसे नहीं हैं। तो दूसरा ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को गैस चूल्हा बंद व चालू करना नहीं आता। उन्हें गैस सिलेंडर में विस्फोट होने का भय भी बना रहता है। इसके अलावा ग्रामीण अंचलों में परंपरागत रूप से मिट्टी के चूल्हे पर ही भोजन बनाया जाता है। जिसके कारण गैस सिलेंडर पर बनाया गया खाना स्वादिष्ट नहीं लगता।

टंकी फटने के डर व गैस भरवाने के लिए पैसे न होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में चूल्हे पर खाना बनाती हैं महिलाएं