--Advertisement--

अब कक्षा 8 के बाद छात्राओं को नहीं छोड़नी पड़ेगी पढ़ाई

Begumganj News - क्षेत्रीय विधायक व लोक निर्माण मंत्री ठाकुर रामपालसिंह की प्रयासों से स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा क्षेत्र में एक...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 02:15 AM IST
अब कक्षा 8 के बाद छात्राओं को नहीं छोड़नी पड़ेगी पढ़ाई
क्षेत्रीय विधायक व लोक निर्माण मंत्री ठाकुर रामपालसिंह की प्रयासों से स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा क्षेत्र में एक नवीन हाई स्कूल की स्वीकृति प्रदान की है। जिसमें नवीन शिक्षण सत्र से प्रवेश प्रारंभ हो जाएंगे और जिससे करीब एक दर्जन ग्रामों के विद्यार्थियों को बारिश में बीना नदी पार कर स्कूल जाने के में होने वाले खतरे से निजात मिल जाएगी। क्षेत्रवासियों को जानकारी लगते ही लोगों ने खुशी जाहिर करते हुए लोक निर्माण मंत्री का आभार व्यक्त किया है।

अधिकतर बच्चियां बीच में छोड़ देती थी पढ़ाई: बारिश की परेशानी के अलावा बेगमगंज आकर या अन्य गांवों में अकेले सफर कर स्कूल जाने के कारण दर्जन भर गांव की लड़कियां आठवीं के बाद पढ़ाई छोड़कर घर के काम काज में लग जाती थी। हाई स्कूल का दर्जा मिल जाने से उनकी पढ़ाई आगे बढ़ सकेंगी। और उन्हें उम्मीद जाग गई है कि जब हाई स्कूल का दर्जा मिल गया है तो आगे चलकर हायर सेकंडरी का दर्जा भी मिल जाएगा। जिससे विशेषकर छात्राओं में पढ़ाई के लिए रुझान बढ़ेगा।

इन गांव को होगा लाभ : खजुरिया बरामद गढ़ी, झिरिया, ककरूआ, महूना,ढेकरी, पेकलोन, भभूका, चैनपुरा, कोकलपुर, पीरपहाड़ी, सागोनी, बेरखेड़ी सहित अन्य ग्रामों के बच्चे भी नदी के उस पार के मार्ग से खजुरिया चार पांच किमी की रास्ता तय कर बारिश में भी स्कूल आ जा सकेंगे।

खजुरिया बरामद गढ़ी के हरनाम सिंह लोधी, ककरूआ के आबिद खां, भभूका के हरदयाल,सागोनी के फरीद खां, कोकलपुर के राजेश कुमार सहित अन्य ग्रामों के वासियों का कहना है कि खजुरिया में हाई स्कूल खुलने से उनके बच्चों को शिक्षा ग्रहण करने में आसानी होगी और वे मिडिल के बाद आगे की कक्षाओं में दाखिला ले सकेगी। हाई स्कूल व हायर सेकंडरी करने से उन्हें नौकरी आदि के लिए भी सुविधा होगी। अभी अधिकतर बच्चियां मिडिल के बाद परेशानियों को देखते हुए बीच में ही पढ़ाई छोड़ देती थी।

इन गांवों के छात्र करते थे नाव से नदी पार

खजुरिया बरामद गढ़ी, झिरिया, ककरूआ, महूना, ढेकरी, पेकलोन, भभूका आदि गांवों के छात्र छात्राएं अभी तक बारिश के समय खजुरिया घाट से नाव से नदी पार कर हाई स्कूल की शिक्षा ग्रहण करने खतरा मोल लेकर जाते थे। यदि बीच में बारिश हो गई तो नदी उफान पर आ जाने पर उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। कई बार उन्हें अन्य गांवों में अपने रिश्तेदारों के यहां रात गुजारने के लिए विवश होना पड़ता था।

हरसंभव प्रयास करेंगे


X
अब कक्षा 8 के बाद छात्राओं को नहीं छोड़नी पड़ेगी पढ़ाई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..