बेगमगंज

--Advertisement--

ड्रेस में आएंगे शिक्षक, उपस्थिति पर भी रहेगी नजर

2 अप्रैल से खुल रहे सरकारी स्कूलों का माहौल इस बार एम शिक्षा मित्र के कारण बदला- बदला नजर आएगा। अब तक मनमर्जी से...

Danik Bhaskar

Mar 29, 2018, 03:10 AM IST
2 अप्रैल से खुल रहे सरकारी स्कूलों का माहौल इस बार एम शिक्षा मित्र के कारण बदला- बदला नजर आएगा। अब तक मनमर्जी से स्कूल पहुंचने वाले शिक्षकों के अलावा अधिकारी,कर्मचारी भी समय पर स्कूल पहुंचने की जद्दोजहद करते दिखेंगे। स्कूल में कितने बच्चे आ रहे और कितने नहीं। इस पर भी एम शिक्षा मित्र से नजर रखी जाएगी। हालांकि शिक्षक ई अटेंडेंस का जमकर विरोध कर रहे हैं।

दरअसल सरकारी स्कूलों में पढ़ाई की गुणवत्ता सुधारने के साथ ही बच्चों की संख्या बढ़ने और शिक्षक कर्मचारियों के कसावट लाने के मकसद से शिक्षा विभाग इस बार कई तरह के प्रयोग कर रहा है। इसमें ई अटेंडेंस, शिक्षकों के लिए ड्रेस कोड, बच्चों को सिली-सिलाई यूनिफार्म देने और स्कूलाें में बुक बैंक की शुरुआत करने जैसी कवायद शामिल है।

ऐसी रहेगी व्यवस्था : शिक्षक से लेकर डीईओ,डीपीसी,बीईओ,बीआरसी से लेकर सभी कर्मचारियाें को ई- अटेंडेंस लगाने को कहा गया है। एम शिक्षा मित्र एप का नया वर्जन लांच किया गा है। एजूकेशन पोर्टल में उपलब्ध सभी सुविधाएं व जानकारी अब इसी एप से मिल सकेंगी। पे स्लिप, अवकाश आवेदन, ई सर्विस, शिकायत, छात्रवृत्ति साइकिल वितरण की जानकारी ले सकेंगे।

ये है स्थिति : स्कूलों से संबंधित शिक्षकों को आदेश की प्रति देकर आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए कहा गया है जो संबंधित विषय के लिए आवेदन कर सकेंगे। पहले जनपद क्षेत्र से शिक्षकों की सूची जाती थी लेकिन अब आॅनलाइन पंजीयन के बाद उन्हीं शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जाएगी।

नए सत्र की व्यवस्था

बदला-बदला नजर आएगा 2 अप्रैल से शुरू हो रहे सरकारी स्कूलों का माहौल

शिक्षकों के लिए ड्रेस कोड

शिक्षकों के लिए ड्रेस कोड लागू किया जा रहा है। महिला शिक्षकों के लिए मेहरून और पुरुष शिक्षकों के लिए नेवी ब्लू जैकेट पहनना अनिवार्य है।

यह है स्थिति: शिक्षकों को जैकेट अपने पैसे से खरीदना होगा या सरकार पैसे देगी। यह स्पष्ट नहीं है। अधिकारियाें की मानें तो शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं।

विषय के अनुसार ट्रेनिंग : एनसीईआरटी का सिलेबस कक्षा 3 से 7 और 9 वीं से 12 वीं तक लागू किया जा चुका है। स्कूली बच्चाें को कैसे पढ़ाना है, इसकी ट्रेनिंग उन्हीं शिक्षकाें को दी जाएगी जो संबंधित विषय के होंगेे।

आदेश का पालन कराएंगे


Click to listen..