--Advertisement--

समस्या उनको बताओ जिनके पास समस्या न हों

अपना जीवन दंदों फंदों से बचाएं, कोर्ट कचहरी पुलिस थानों से दूर रहे बचा हुआ जीवन प्रभु की भक्ति और उसके चरणों में...

Danik Bhaskar | Feb 16, 2018, 04:15 AM IST
अपना जीवन दंदों फंदों से बचाएं, कोर्ट कचहरी पुलिस थानों से दूर रहे बचा हुआ जीवन प्रभु की भक्ति और उसके चरणों में गुजारे तब ही मुक्ति संभव है। वो मानसिकता हटा दीजिए कि हम बुढ़ापे में कुछ करेंगे। भिखारी भी राम राम जपता है तो उसे भी रोटी मिल जाती है और यहां भी सभी उपस्थित भक्त रोटी वाले ही हैं। आप इस शरीर से राम कहेंगे तो मुक्ति मिलेगी।

उक्त उदगार अल्प प्रवास पर आए कमल किशोर नागर ने कोलूघाट मंदिर के पास राय कुटी पर उपस्थित जन समूह के समक्ष व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि जिस तरह जनसुनवाई होती है वहीं समस्याओं का निदान होता है। जनसुनवाई कलेक्टर या अन्य कोई अधिकारी करता है उसकी भी कई समस्याएं होती हैं। वही अपनी व्यथा किसे सुनाए।

इसी प्रकार महाभारत में द्रोपदी चीरहरण में जनसुनवाई बुलाई थी, लेकिन हुआ कुछ नहीं। द्रोपदी की सहायता सिर्फ ईश्वर ने ही की। इसलिए समस्या उसे ही सुनाओ जिसके पास कोई समस्या न हो और ऐसे शक्ति सिर्फ ईश्वर है। इस अवसर पर पं. नाथूराम दुबे, राकेश राय, राजेंद्र शर्मा हरदौट, जुगल किशोर देवलिया, सुरेश ताम्रकार, हरिसाहू, लच्छू महाराज, अभिषेक राय, महेश साहू, सुभम दुबे, संतोष राय, विनोद श्रीवास्तव, नरेन्द्र यादव, कमल नामदेव सहित बढ़ी संख्या में लोग मौजूद थे।

कार्यक्रम

अल्प प्रवास पर आए संत कमल किशोर नागर ने श्रद्धालुओं को किया संबोधित

कोलूघाट मंदिर के पास श्रद्धालुओं को संबोधित करते संत कमलिशोर नागर।