--Advertisement--

मुरम का अवैध उत्खनन कर की जा रही है रायल्टी की चोरी

क्षेत्र में अवैध रूप से मुरम का उत्खनन जोरों पर चल रहा है। खनिज विभाग के उदासीन रवैए के कारण बिना अनुमति एवं...

Danik Bhaskar | Feb 04, 2018, 04:15 AM IST
क्षेत्र में अवैध रूप से मुरम का उत्खनन जोरों पर चल रहा है। खनिज विभाग के उदासीन रवैए के कारण बिना अनुमति एवं रायल्टी चुकाए लोग मुरम का उत्खनन कर धड़ल्ले से बेच रहे हैं। शासकीय भवनों में भी अवैध मुरम का उपयोग हो रहा है लेकिन अधिकारी भी इससे बेखबर बने हुए हैं।

तहसील में कहीं भी मुरम की खदान नहीं है उसके बावजूद लोग नदियों, पहाड़ों की कछारों, शासकीय नजूल की भूमि से भारी मात्रा में मुरम का उत्खनन कर निजी उपयोग और उसका विक्रय कर रहे है। भवनों के फाउंडेशन सहित मार्गो के निर्माण आदि में उपयोग की जा रही है। कई किसान अपनी निजी भूमि में बिना अनुमति ठेकेदारों को मुरम का उत्खनन करवा रहे है। जिसकी आड़ में शासकीय भूमि या पहाड़ियों से भी मुरम का अवैध उत्खनन किया जा रहा है। बेरखेड़ी ग्राम में लाल मुरम तो हप्सिली ग्राम की पहाड़ी से पीली मुरम का उत्खनन होते देखा जा सकता है।वहीं नगरीय क्षेत्र में खिरिया नारायणदास मोहल्ले में टेकरी के पीछे कब्रिस्तान, श्मशान की भूमि पर भी अवैध मुरम उत्खनन जारी है। जिसे रोकने के लिए खनिज विभाग ने कभी भी प्रयास नहीं किए है जिससे शासन को लाखों का चूना लगाया जा रहा है वहीं श्मशान व कब्रिस्तान जैसे स्थानों पर मुरम खुदाई से लोगो की भावनाएं भी आहत हो रही हैं। कई ग्रामों में तो शासकीय स्कूलों के मैदानों में भी उत्खनन किया गया है। जिसकी शिकायतें कई बार ग्रामीण कर चुके है लेकिन कोई हल नहीं निकल रहा है।

चेक करवा लेते है