Hindi News »Madhya Pradesh »Begumganj» सब्जी-मसालों की खेती से किसान कमा रहे मुनाफा

सब्जी-मसालों की खेती से किसान कमा रहे मुनाफा

आज जब किसान आए दिन खेती को अधिक लागत का बता रहे है हमेशा घाटे की बात करते हैं। वहीं नगर से 18 किमी दूरी पर स्थित ग्राम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 17, 2018, 04:20 AM IST

सब्जी-मसालों की खेती से किसान कमा रहे मुनाफा
आज जब किसान आए दिन खेती को अधिक लागत का बता रहे है हमेशा घाटे की बात करते हैं। वहीं नगर से 18 किमी दूरी पर स्थित ग्राम बडगवां के कृषक पृथ्वी सिंह संतोष सिंह कल्याण सिंह ने अपने खेतों में कम जगह में मिर्च की खेती कर हजारों की कमाई कर खेती को लाभ धंधा बना दिया है।

किसान संतोष सिंह बताते हैं कि पहले हमारे बुजुर्ग केवल गेहूं,चना और सोयाबीन आदि की खेती करते आ रहे थे। उत्पादन और आमदनी तो हो रही थी लेकिन दिनों दिन बढ़ते खर्च एवं आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं हो पाती थी। तब हमने अपने खेतों में यूएस एग्रो सीड कंपनी एवं सीमेंस व केलेक्स कंपनी की हायब्रिड मिर्च की खेती आधा एकड़ में उद्यान विभाग के अधिकारी एमएल सेन की तकनीकी सलाह से की तब हमने एक ही फसल में 30 से 40 हजार का लाभ प्राप्त किया। इस बार फिर से मिर्च की खेती प्रारंभ कर दी है साथ ही टमाटर एवं बेगन की खेती भी करना प्रारंभ किया है एवं उद्यान विभाग से ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिस्टम सिंचाई हेतु अनुदान पर लगवाए जा रहे हैं जिससे कम पानी में अधिक उत्पादन ले रहे हैं। साथ ही पानी की बचत भी हो रही है। पिछले वर्ष ग्राम के एक दर्जन किसानों ने स्प्रिकंलर पद्धति से सिंचाई कर आलू ,प्याज टमाटर की खेती की थी। वहीं इस बार गांव के ही और आठ से दस किसानों की रुचि सब्जियों की खेती में बढ़ी है। और टपक सिंचाई पद्धति का लाभ ले रहे हैं। जन प्रतिनिधि एवं कृषक पृथ्वी सिंह बताते हैं कि पिछले वर्ष प्रत्येक सप्ताह लगभग 5 हजार से 10 हजार रुपए तक की मिर्च की बिक्री हुई थी। जबकि इस बार प्रति सप्ताह 10 हजार से 12 हजार रु. की मिर्च बाजार में बिक रही है। उनका कहना है कि यदि किसान सही समय पर बाजार की मांग अनुसार सब्जी की उन्नत किस्मों की खेती करें तो हजारों नहीं लाखों का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

खेती-किसानी

इस साल प्रति सप्ताह 10 से 12 हजार रुपए की बाजार में बेच रहे मिर्च

मिर्च, टमाटर, बैगन, भिंडी की खेती पर लागत व मुनाफा

एक एकड़ में उक्त सब्जी एवं मसालों की खेती करने पर लगभग पांच से दस हजार रुपए का खर्च आता है। जबकि खर्च निकाल कर 30 से 40 हजार रुपए तक का लाभ किसान प्राप्त कर सकता है। और अधिक देखरेख भी किसान को नहीं करना पड़ती साथ ही आधुनिक तकनीक से और अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। जिससे गुणवत्तापूर्ण सब्जी व मसाले लोगों को प्राप्त हो रहे हैं।

आधुनिक पद्धति से क्षेत्र के किसान कर रहे मसालों की खेती।

शासन की योजनाओं के तहत उद्यान विभाग से अनुदान पर ड्रिप स्प्रिंकलर, मलचिंग एवं पोली हाऊस आदि लगवाए जा रहे हैं। तथा सब्जी के किट्स भी प्रदान किए जा रहे हैं। एमएल सेन, उद्यान अधिकारी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Begumganj

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×