• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • मजदूर असंगठित हैं इसलिए योजनाओं के लाभ से वंचित हैं: न्यायाधीश रघुवंशी
--Advertisement--

मजदूर असंगठित हैं इसलिए योजनाओं के लाभ से वंचित हैं: न्यायाधीश रघुवंशी

बेगमगंज| मजदूर असंगठित हैं इसलिए उसे नियम कानून की जानकारी नहीं है। मजदूरों के लिए 8 घंटे का समय मजदूरी के लिए...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:05 AM IST
बेगमगंज| मजदूर असंगठित हैं इसलिए उसे नियम कानून की जानकारी नहीं है। मजदूरों के लिए 8 घंटे का समय मजदूरी के लिए निश्चित है, लेकिन वह जानकारी के अभाव में 10 से 12 घंटे तक मजदूरी करता रहता है। यदि उसे कानून व नियमों की जानकारी होती तो वह दो घंटे अधिक काम करने की अतिरिक्त मजदूरी ले पाता।

उक्त उदगार न्यायालय परिसर में विधिक सेवा समिति द्वारा 1 मई मजदूर दिवस पर आयोजित विधिक साक्षरता शिविर में समिति के अध्यक्ष एवं प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अरविंद रघुवंशी ने व्यक्त किए। उन्होंने उपस्थित मजदूरों को असंगठित मजदूर का पंजीयन कराने की सलाह दी और कानून में दिए प्रावधान बताए। उन्होंने खेतीहर मजदूर हम्माल, ठेला धकाने वाले, दुकानों पर काम करने वाले कई मजदूरों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मजदूर का कार्य अलग हो सकता है इसलिए मजदूरों को अपने अधिकारी जानना आवश्यक है। ताकि वे शासन की योजनाओं के लाभ के साथ सही मजदूरी हासिल कर सके। शिविर में सिलवानी के अधिवक्ता संतोष जैन, एम मतीन सिद्दीकी, ओपी दुबे, रमेश प्रसाद सोनी ने भी मजदूरों के संबंध में कानून की जानकारी दी। एजीपी बद्रीविशाल गुप्ता ने संचालन किया। इस दौरान द्वितीय जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश बीआर यादव, व्यवहार न्यायाधीश विनोद पाटीदार, अधिवक्ता आरके जैन, राजकुमार गुप्ता, एसके तिवारी, सईद कमर खान, गुफरान अली, हेमराज राठौर,राजेंद्र सोलंकी, विनय खरे, संतोष साहू, उमेश गुप्ता सहित कई अधिवक्ता एवं मजदूर मौजूद थे।

मजदूर दिवस पर आयोजित किया गया कार्यक्रम।