Hindi News »Madhya Pradesh »Begumganj» शब-ए-बारात: लोगों ने पूरी रात की इबादत मजारों में पढ़ा फातेहा

शब-ए-बारात: लोगों ने पूरी रात की इबादत मजारों में पढ़ा फातेहा

मर्कज मस्जिद के पेश इमाम मौलाना शामिद नदवी ने सामूहिक दुआ कराकर अमनो अमान, देश की हिफाजत, अच्छे रास्ते पर चलने और...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:05 AM IST

मर्कज मस्जिद के पेश इमाम मौलाना शामिद नदवी ने सामूहिक दुआ कराकर अमनो अमान, देश की हिफाजत, अच्छे रास्ते पर चलने और बुराई से बचने व दीन के रास्ते पर चलकर गरीबों की मदद करने की दुआ कराई। नगर की सभी 16 मस्जिदों में पूरी रात इसी तरह के कार्यक्रम चलते रहे। पवित्र माह रमजान से 15 दिन पहले मनाया जाने वाल शब ए बारात का त्योहार नगर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में अकीदत के साथ मनाया गया। जहां लोगों ने मस्जिदों में एकत्रित होकर पूरी रात इबादत में गुजारी वहीं कब्रिस्तानों व प्रमुख मजारों पर जाकर लोगों ने फातेहा पढ़कर बख्शी और अपने पूर्वजों के लिए जन्नत में आला मुकाम की दुआएं की। कुछ लोगों ने अपने अपने घरों में हलवा बनवाकर लोगों को खिलवाया तो कुछ मस्जिदों व कब्रिस्तानों पर विद्युत सज्जा कर आने वाले लोगों को प्रकाश की समुचित व्यवस्था की। नगर पालिका ने सभी कब्रिस्तानों एवं प्रमुख मस्जिदों के आसपास हैलोजन लाइटें लगवाकर प्रकाश की व्यवस्था की।

इन मजारों पर लगा लोगों का तांता

बीना नदी किनारे बरूअल वाले बाबा, पीर पहाड़ी, बंगले वाले बाबा मुकरबा, टेकरी स्थित चांद शाह बाबा, बालाई टेकरी पर नीम वाले बाबा,ईदगाह वाले बाबा,उप जेल व पुरानी जेल वाली दरगाह, पशु अस्पताल वाली दरगाह, कुतुब साहब महादेवपुरा, किले में सीढ़ी वाले बाबा, सिप्पे के पास वाली दरगाह, पक्का फाटक वाली दरगाह सहित सबसे पुरानी मुकरबे वाले कब्रिस्तान में स्थित दरगाह सहित सुनेहरा मार्ग पर एवं तिन्स पहाड़ वाले बाबा की दरगाह पर लोग फातेहा पढ़ने पहुंचे।

बुधवार को रखा रोजा : रात में जागकर इबादत की और सुबह बुधवार का रोजा रखा गया, पवित्र माह रमजान के बाद इस रोजे का भी खास महत्व है। लोगो ने जगह जगह चाय पानी के इंतजाम भी किए मस्जिदों में भी यह इंतजाम किए गए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Begumganj

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×