बेगमगंज

--Advertisement--

बेटे को बनाया इंजीनियर और बेटी को कराया एमसीए

बेगमगंज| ऐसी मां को सलाम जिसने कम तनख्वाह में नौकरी कर और कपड़ों की सिलाई कर अपने बेटे को इंजीनियर बनाया और बेटी को...

Danik Bhaskar

May 13, 2018, 02:05 AM IST
बेगमगंज| ऐसी मां को सलाम जिसने कम तनख्वाह में नौकरी कर और कपड़ों की सिलाई कर अपने बेटे को इंजीनियर बनाया और बेटी को एमसीए कराया।

नगर के वार्ड 6 गांधी बाजार निवासी र|ेश भायजी जिन्हें पूरा तहसील ही नहीं जिला अच्छी तरह पहचानता था जो लाइट फिटिंग के काम के साथ समाजसेवी थे। किसी के भी घर में सर्प निकलने पर वह उसे पकड़कर जंगल में छोड़ आते थे। वर्ष 2006 में एक व्यक्ति के घर में निकले सांप को पकड़ते समय उसने काट लिया। इससे उनकी असमय मृत्यु हो गई। उस समय र|ेश भायजी की आयु 40 वर्ष और उनकी प|ी मीना भायजी की आयु 35 वर्ष थी। पति की असमय मृत्यु के बाद मीना भायजी ने अपने दो बच्चों की जिम्मेदारी संभाली उनका बेटा राहुल भायजी उस समय कक्षा दस में सेंट थामस कान्वेंट में पढ़ाई कर रहा था। पिता की मृत्यु से उस पर गहरा आघात लगा। मां की समझाइश पर उसने मन से पढ़ाई की और कान्वेंट में पहला स्थान प्राप्त किया। मीना भायजी ने अपने बच्चाें को पढ़ाने व पालन के लिए वर्धमान गैस एजेंसी पर नौकरी की।

Click to listen..