• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • भगवान भरोसे चल रही है उत्कृष्ट स्कूल के बच्चों की पढ़ाई
--Advertisement--

भगवान भरोसे चल रही है उत्कृष्ट स्कूल के बच्चों की पढ़ाई

नगर के उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के बच्चों का इस वर्ष भविष्य अंधकारमय दिख रहा है। क्योंकि एक तो विद्यालय...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 02:15 AM IST
नगर के उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के बच्चों का इस वर्ष भविष्य अंधकारमय दिख रहा है। क्योंकि एक तो विद्यालय में विषय विशेषज्ञों की कमी के चलते छात्र पहले से ही परेशान चल रहे थे।

पिछले साल से उत्कृष्ट स्कूल को अंग्रेजी माध्यम होने से नगर के प्राइवेट स्कूलों से कक्षा 11 वी एवं 12 वीं के छात्र-छात्राओं ने निकलकर लगभग 150 छात्र-छात्राओं ने उत्कृष्ट स्कूल में एडमिशन ले लिया। लेकिन इस वर्ष सत्र शुरू होने के बाद भी आज तक स्कूल में अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों की नियुक्तियां नहीं होने से छात्र-छात्राएं स्कूल में बैठे-बैठे आ जाते है,क्योंकि जब शिक्षक ही नहीं होंगे तो बच्चों को पढ़ाये गा कौन। छात्रों का कहना है कि अगर हमें ऐसा पता होता तो हम प्राइवेट स्कूल नहीं छोड़ते। क्योंकि पढ़ाई में पिछड़ते ही जा रहे है और कोर्स पुरा करने में आगे अलग से पढ़ाई करना पड़ेगी।

कई विषयों के नहींं है शिक्षक : उत्कृष्ट स्कूल में अंग्रेजी, बायलॉजी, फिजिक्स, केमिस्ट्री,कामर्स सहित अन्य विषय के शिक्षक स्कूल में नही होने से छात्रों का भविष्य अंधकारमय है। वहीं शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस माह के अंत तक अतिथि विद्वानों की नियुक्ति कर छात्र-छात्राओं का अध्यापन कार्य पूर्ण कराया जायेगा। क्योंकि शिक्षा विभाग के से अभी आदेश प्राप्त हुए है। ऑनलाइन के माध्यम से अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी।

शिक्षा का स्तर गिरा

उत्कृष्ट स्कूल में ज्यादातर शिक्षक स्थानीय होने से भी कुछ शिक्षक पढ़ाई में ज्यादा रूचि नहीं लेते है और वही कुछ शिक्षक कर्मचारी संघ के पदाधिकारी होने से भी स्कूल की व्यवस्थाएं चौपट हो रही है। इससे पहले उत्कृष्ट स्कूल के प्राचार्य श्री अहिरवार द्वारा विगत वर्ष शिक्षकों और छात्रों पर सख्ती दिखाई थी। जिसके बाद स्कूल की पढ़ाई का स्तर काफी सुधरा था। साथ ही एसडीएम डीके सिंह की सक्रियता के चलते शिक्षक स्कूलों में समय पर पहुंचते थे। लेकिन जब प्राचार्य श्री अहिरवार का स्कूल से स्थानांतरण दूसरे स्कूल में कर दिया गया है, जिससे पढ़ाई व्यवस्था गड़बड़ा गई है।