--Advertisement--

23 हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में नहीं प्राचार्य

तहसील के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी से न सिर्फ छात्राें की पढ़ाई बाधित हो रही है बल्कि अच्छे परीक्षा परिणाम...

Dainik Bhaskar

Jun 21, 2018, 02:15 AM IST
23 हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में नहीं प्राचार्य
तहसील के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी से न सिर्फ छात्राें की पढ़ाई बाधित हो रही है बल्कि अच्छे परीक्षा परिणाम भी प्रभावित होते हैं। शिक्षकों की कमी से जूझ रहे स्कूलों में पढ़ाई का जिम्मा अतिथि शिक्षकों के भरोसे होता है।

स्कूलों में विषय विशेषज्ञ न होने के कारण छात्रों की पढ़ाई के लिए प्राइवेट कोंचिंग का सहारा लेना पड़ता है। नगर की उत्कृष्ट स्कूल व एमएलबी गर्ल्स स्कूल के शिक्षक अमले पर नजर डाली जाए तो शिक्षकों व विषय विशेषज्ञों की कमी सामने आती है। तहसील में 22 हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूल हैं। खजुरिया व सुमेर को इसी वर्ष स्वीकृति मिली है। सभी स्कूलों में विशेष तौर पर अंग्रेजी गणित और उर्दू,संस्कृत विषय के विशेषज्ञों की कमी है। गर्ल्स हायर सेकंडरी में 8 पद स्वीकृत हैं। जबकि तहसील में एक मात्र शासकीय गर्ल्स हायर सेकंडरी होने से यहां कम से कम 20 पद विषय विशेषज्ञों के स्वीकृत होना चाहिए। यही कारण है कि यहां की छात्राएं बेहतर शिक्षा से वंचित रहती हैं। प्राचार्य व संकुल प्रभारी आरएन कुर्मी का कहना है कि उनके संकुल में 5 हाई स्कूल हैं। जहां शिक्षकों की कमी है। वहीं गर्ल्स स्कूल एक ही होने से छात्राओं की संख्या अधिक है लेकिन शिक्षकों की भारी कमी है जो अतिथि शिक्षकों से पूर्ति करना पड़ती है।

नहीं है एक भी फुल फ्रेश प्राचार्य : तहसील की एक स्कूल को छोड़कर सभी 23 हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में एक भी फुल फ्रेश प्राचार्य नहीं है कहीं कहीं तो मिडिल स्कूल का ही पूरा स्टाफ हाई स्कूल की व्यवस्थाएं संभाले हुए है। एक मात्र उत्कृष्ट स्कूल के प्राचार्य एसएल अहिरवार 31 जुलाई को रिटायर्ड हो जाएंगे उसके बाद पूरी तहसील के शासकीय हाई व हायर सेकंडरी स्कूल प्राचार्य विहीन हो जाएंगे।

X
23 हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में नहीं प्राचार्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..