बेगमगंज

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • किसानों को बंटने वाला बीज बाजार में बेच देते हैं अधिकारी
--Advertisement--

किसानों को बंटने वाला बीज बाजार में बेच देते हैं अधिकारी

कृषि विभाग के अधिकारियों और ग्रामसेवकों पर आए दिन धांधली और भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहते हैं, क्योंकि कृषि विभाग...

Danik Bhaskar

Jun 30, 2018, 02:15 AM IST
कृषि विभाग के अधिकारियों और ग्रामसेवकों पर आए दिन धांधली और भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहते हैं, क्योंकि कृषि विभाग में ज्यादातर स्थानीय अधिकारी और कर्मचारी कई वर्षों से पदस्थ होने से यहां मनमानी चलाते हैं और कुछ ग्रामसेवक ग्रामों में न जाकर घर बैठे ही विभागीय आंकड़े कागजों पर दर्शाते रहते हैं।

इन्हीं सबको लेकर कृषि विभाग के सभापति, जपं सदस्य जयपाल सिंह ठाकुर ने आरोप लगाए हैं कि किसानों को तहसील के अंतिम गांवों से बुलाकर बीज की किट बेगमगंज मुख्यालय पर ही उपलब्ध कराई जा रही है, जबकि विगत दो दिनों से सुनवाहा क्षेत्र के किसान बीज की किट लेने बेगमगंज पहुंच रहे हैं,लेकिन उन्हें बीज उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है। किसान देवेंद्र सिंह, हनुमत सिंह, छोटू सिंह, उदल सिंह, रामस्वरूप ठाकुर, रघुवीर सिंह आदि किसानों से बोल दिया कि बीज खत्म हो गया है। इसी तरह तहसील अन्य किसानों को विभागीय कर्मचारी और अधिकारी परेशान कर रहे हैं। किसानों को समय पर बीज नहीं मिलेगा तो किसान बोवनी से वंचित हो जाएगा।

गांवों में नहीं पहुंचते ग्राम सेवक : कृषि विभाग के सभापति,जनपद पंचायत सदस्य जयपाल सिंह ठाकुर ने आरोप लगाए कि ग्रामसेवक क्षेत्र में महीनों तक भ्रमण करने नहीं पहुंचते। इससे पहले भी खाद-बीज और कीटनाशक के नाम पर खुला भ्रष्टाचार हुआ है।

विभाग की सुविधाओं से वंचित किसान : जयपाल सिंह ने यह भी आरोप लगाए कि मेरे द्वारा कृषि विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों से बार-बार बोला गया कि मुख्यालय पहुंचकर किसानों को बीज की किटों का वितरण किया जाए,किसानों को अस्सी किमी दूर बुलाकर किटों का वितरण न किया जाए, क्योंकि किसान इतनी दूर से पांच किलो और दस किलों का बीज लेने आने में परेशान होते है। साथ ही 200 से 400 रुपए खर्च आता है।

नए बीज नहीं होते उपलब्ध

कृषि विभाग द्वारा किसानों को जो बीज वितरण किया जाता है या तो बोवनी होने के बाद दिया जाता है या फिर वहीं पुराने किस्म का बीज किसानों को दिया जाता है। जैसे कि 9560 एवं 9305 सोयाबीन ही देते हैं और जो बचता है उसे मार्केट में विक्रय कर देते हैं।

योजनाओं को कर्मचारी लगा रहे हैं पलीता


किसानों को पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता बीज


Click to listen..