• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • विभाग ने पूरा नहीं किया वादा, बिना जूते-चप्पल के तेंदूपत्ता तोड़ेंगे मजदूर
--Advertisement--

विभाग ने पूरा नहीं किया वादा, बिना जूते-चप्पल के तेंदूपत्ता तोड़ेंगे मजदूर

बेगमगंज| गर्मी के मौसम में जंगलों के भीतर तपती धूप में तेंदू पत्ता तोड़ने वाले मजदूरों को वन विभाग द्वारा जूते...

Danik Bhaskar | Apr 30, 2018, 03:10 AM IST
बेगमगंज| गर्मी के मौसम में जंगलों के भीतर तपती धूप में तेंदू पत्ता तोड़ने वाले मजदूरों को वन विभाग द्वारा जूते चप्पल व पानी की बोतल देने का वादा किया गया था, लेकिन अभी तक उन मजदूरों के हाथ कुछ भी नहीं लगा है। कुछ ही दिनों में तेंदूपत्ता तोड़ने का काम शुरू हो जाएगा। इन मजदूरों को हमेशा की तरह फिर से बिना जूते चप्पल के जंगलों में भटकना पड़ेगा। गौरतलब है कि वन विभाग के माध्यम से तेंदूपत्ता तोड़ने वाले मजदूरों में पुरुषों को जूते, महिलाओं को चप्पल और दोनों को पानी की बोतल देने की योजना बनी है। इस सामग्री वितरण के लिए वन समितियों के माध्यम से मजदूरों का दो बार सर्वे कर सूची बनाई जा चुकी है। इस बार मजदूरों को उम्मीद थी कि उन्हेँ सामग्री मिलेगी तो जंगल में काफी राहत होगी। लेकिन अभी तक उन्हें कुछ भी नहीं मिला है। संबंधित अधिकारी कहते है कि शीघ्र प्रदान किए जाएंगे ।

अब दस मई को वितरण की खबर : वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि संभवतः 10 मई को मुख्यमंत्री का जिले का दौरा है। इस दौरान मजदूरों को सामग्री वितरित की जाएगी, लेकिन स्पष्ट कुछ भी नहीं है। आमतौर पर तेंदूपत्ता तोड़ने वाले मजदूर आर्थिक रूप से काफी कमजोर होते है। उनकी दैनिक मजदूरी से ही उनका पेट भरता है। ऐसे में वह अपने लिए जूते चप्पल नहीं खरीद पाते है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने ये योजना तैयार की है, लेकिन उसका लाभ अभी तक किसी को नहीं मिला है। मजदूर हल्के आदिवासी, जगत सिंह अहिरवार, भोले आदिवासी ने बताया कि पिछले साल अधिकारी और समिति प्रबंधक ने बताया था कि जूता चप्पल और पानी की बोतल मिलनी है मगर अब तक नहीं मिली है।