• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • 9वीं से 12 वीं तक के विद्यार्थियों को स्वास्थ्य व शारीरिक शिक्षा अनिवार्य
--Advertisement--

9वीं से 12 वीं तक के विद्यार्थियों को स्वास्थ्य व शारीरिक शिक्षा अनिवार्य

विद्यार्थियों में शारीरिक रूप से विकास के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई ने हेल्थ एंड फिजिकल...

Danik Bhaskar | Apr 23, 2018, 03:15 AM IST
विद्यार्थियों में शारीरिक रूप से विकास के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई ने हेल्थ एंड फिजिकल एजुकेशन प्रोग्राम को कक्षा 9 से 12 वीं तक के लिए अनिवार्य कर दिया है। शुरू हुए नए सत्र 2018-19 से मेन स्ट्रीम विषयों की तरह ही इस विषय को भी पढ़ाया जाएगा। इसका सिलेब्स भी सीबीएसई द्वारा तैयार किया जाएगा। बोर्ड की ओर से जारी किए गए सर्कुलर में निर्देश दिए गए है कि विद्यार्थियों के मानसिक और शारीरिक विकास को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है।

इसके अलावा इन विषयों की कक्षाएं रेगुलर चलेंगी। ऐसा नहीं है कि इसकी शुरूआत पहली बार ही की जा रही है। इससे पहले इन स्कूलों में फिजिकल एजूकेशन कक्षाएं आप्शनल होती थीं। लेकिन बच्चों के शारीरिक विकास के लिए सीबीएसई ने नए सत्र से 9वीं एवं 12 वीं के छात्रों को इन विषयों की कक्षाएं लेनी होंगी। यानी यह आप्शनल से हटकर अब अनिवार्य हो गया है। इसके साथ ही सीबीएसई ने कक्षा 9वीं और 10 वीं का सिलेब्स भी बोर्ड की बेवसाइट पर अपलोड कर दिया है। फिलहाल हायर सेकंडरी के कोर्स को लेकर यह स्पष्ट नहीं हुआ है। इसलिए यहां पर सिलेब्स आप्शनल में ही चल रहा था। जब तक कोर्स के बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं होता तब तक यहां वही लागू रहेगा।

इससे पहले हायर सेकंडरी में वैकल्पिक के रूप में था विषय : फिजिकल एजुकेशन पहले 11वीं और 12 वीं के छात्रों के लिए आप्शन के तौर पर होता था।

सीबीएसई के ऐलान के बाद इसमें थोड़ा संशोधन करते हुए विषय के रूप में हेल्थ एंड फिजिकल एजुकेशन को अब बोर्ड की ओर से अनिवार्य कर दिया गया है। इसके साथ ही कक्षा 9वीं और 10 वीं के लिए भी यह अनिवार्य है।