--Advertisement--

मेरिट सूची जारी होने के दो साल बाद भी नहीं मिली नौकरी

आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा आयोजित की गई सर्वेक्षण सहायकों की परीक्षा में शामिल हुए आवेदकों को करीब 2 साल...

Dainik Bhaskar

Jun 16, 2018, 03:15 AM IST
मेरिट सूची जारी होने के दो साल बाद भी नहीं मिली नौकरी
आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा आयोजित की गई सर्वेक्षण सहायकों की परीक्षा में शामिल हुए आवेदकों को करीब 2 साल बाद भी नौकरी नहीं मिल पाई है। दिसंबर 14 में आयोजित इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद भी आवेदकों को कई बार विभागीय प्रक्रिया से गुजरना पड़ा दस्तावेजों का सत्यापन प्रशिक्षण के साथ ही विभागीय परिचय पत्र बनवाने की प्रक्रिया में भी आवेदक शामिल हुए। इसके बावजूद न तो आवेदकों को विभाग द्वारा नौकरी ही दी गई और न ही इससे संबंधित कोई जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है। अब ये अभ्यार्थी नौकरी हासिल करने के लिए आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं।

जनगणना से संबंधित कार्यों के लिए आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा सर्वेक्षण सहायकों की भर्ती के लिए पूरे प्रदेश में 21 दिसंबर 2014 को ऑनलाइन परीक्षा आयोजित की गई थी। इसमें चयनित अभ्यार्थियों को जनपद पंचायत एवं नगर पालिका को सर्वे कायों के लिए संलग्न किया जाना था। 31 दिसंबर 14 को मेरिट लिस्ट के आधार पर अभ्यार्थियों की सूची जारी की गई। 20 फरवरी 2015 को सभी आवेदकों के दस्तावेजों का सत्यापन जिला मुख्यालय पर किया गया। इसके बाद 27 फरवरी 2015 को विभागीय प्रक्रिया के तहत तीन दिवसीय प्रशिक्षण में सभी आवेदकों ने डाटा एकत्रीकरण, बिजनिस रजिस्टर तैयार करना स्वास्थ्य एवं कृषि कार्यों संबंधित सर्वे, जन्म एवं मृत्यु एवं जनगणना संबंधी कार्यों का सर्वेक्षण सहित अन्य विभागीय कार्यों का प्रशिक्षण भी लिया गया।

नहीं मिली नौकरी : आवेदक अमर साहू ने बताया कि मेरिट सूची में नाम आने के बाद अभी तक भर्ती से संबंधित कोई भी जानकारी हमें हीं दी गई कलेक्टर को भी ज्ञापन दिया ऑनलाइन परीक्षा कराकर सरकार ने फीस तो वसूली, लेकिन नौकरी किसी के भी नहीं दी। मेरिट सूची व प्रशिक्षण पा चुके करीब दो दर्जन युवाओं जिनमें अमर सिंह साहू, देवेंद्र सिंह, राकेश कुमार, मसरूर खा इत्यादि ने सरकार वे शीघ्र नौकरी देने की मांग की है।

X
मेरिट सूची जारी होने के दो साल बाद भी नहीं मिली नौकरी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..