• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • मोहब्बत के साथ रहंे, सुख-दुख में शामिल हों : मौलाना तौहीद आलम
--Advertisement--

मोहब्बत के साथ रहंे, सुख-दुख में शामिल हों : मौलाना तौहीद आलम

बेगमगंज|पैगम्बरे इस्लाम ने जो अखलाक पेश किए उसे हमने लोगों तक पहुंचाने का काम नहीं किया। यही वजह है कि आज कुछ...

Danik Bhaskar | Jun 23, 2018, 03:20 AM IST
बेगमगंज|पैगम्बरे इस्लाम ने जो अखलाक पेश किए उसे हमने लोगों तक पहुंचाने का काम नहीं किया। यही वजह है कि आज कुछ तंजीमों ने इस्लाम को एक अलग ही रूप में पेश कर नफरतें बढ़ा दी है। जरूरत है आज लोगों से इस्लाम का परिचय कराने की। अन्य लोग मस्जिद में नहीं आते कि देखें नमाज और अजान क्या होती है रोजा नहीं देखता लोग देखते हैं आपका व्यवहार अपनों और दूसरों के साथ क्या है। आप अच्छा व्यवहार करें तब आपके धर्म की पहचान होगी कि आपका धर्म कैसा है। उक्त उदगार जामा मस्जिद में जुमे की नमाज से पहले दारूल उलूम नदवातुल उलेमा लखनऊ के उस्ताद ए तफसीर और खतीब जामा मस्जिद कपूरतला लखनऊ से तशरीफ लाए मौलाना तौहीद आलम नदवी ने नमाजियों के समक्ष व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि आज जरूरत है अपने नौजवानों को सही दिशा दिखाने की मोबाइल के गलत इस्तेमाल से रोकने की इस्लाम के उसूलों पर चलकर सही तस्वीर दुनिया के सामने पेश करने की। दीन दुखियों का सहारा बनने देश की एकता के लिए काम करने की।