• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • गर्मी बढ़ने के साथ अस्पताल में भी बढ़ती जा रही है मरीजों की संख्या
--Advertisement--

गर्मी बढ़ने के साथ अस्पताल में भी बढ़ती जा रही है मरीजों की संख्या

तेज गर्मी और लू के थपेड़ों के कारण दिन और रात के तापमान में वृद्धि होने से गर्मी और उमस ने लोगों को बेहाल कर दिया है।...

Danik Bhaskar | Apr 25, 2018, 04:10 AM IST
तेज गर्मी और लू के थपेड़ों के कारण दिन और रात के तापमान में वृद्धि होने से गर्मी और उमस ने लोगों को बेहाल कर दिया है। भीषण गर्मी के कारण खान पान पर ध्यान न देने के कारण अस्पताल में मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है। गर्मी से फूड प्वाइजनिंग, उल्टी दस्त, डायरिया डिहाइड्रेशन के मरीज अस्पताल व प्राइवेट क्लीनिकों पर पहुंच रहे हैं। मौसम जानकारों का कहना है कि वर्षों के बाद अप्रैल में शहर में इतनी तेज गर्मी पड़ रही है पिछले कुछ दिनों के भीतर तापमान में बढ़ोतरी से लाेग बेहाल हैं। घर से बाहर निकलते ही भीषण गर्मी ने लोगों के पसीने छुड़ा दिए हैं।

तेज धूप और बढ़ते तापमान के कारण लोग गर्मी जनित बीमारियों के चपेट में आ रहे हैं। इन दिनों अस्पताल में सर्दी जुकाम, फूड प्वाइजनिंग, उल्टी दस्त डायरिया, डिहाइड्रेशन, स्किन डिजीज जैसी बीमारियों के मरीजों की संख्या अच्छी खासी है। सिविल अस्पताल सहित प्राइवेट चिकित्सालयों में ऐसे मरीजों की बढ़ोतरी हुई है। इधर सिविल अस्पताल में स्टाफ की कमी के कारण मरीज आए दिन परेशान हो रहे हैं। बाटल चढ़वाने के लिए उन्हें एक एक घंटे इंतजार करना पड़ रहा है।

धूप से लागे बेहाल, सड़कें सूनी : गर्मी बढ़ने के कारण काम करने वालों की मुश्किलें भी बढ़ गई हैं। काम के सिलसिले में सड़कों पर निकले लोग बेहाल नजर आए। लिहाजा नीबू पानी, खीरा- ककड़ी, और अन्य ठंडे पेय पदार्थों की मांग बढ़ी है। ऐसी दुकानों पर लोगों की भीड़ लग रही है।

डॉक्टर भी दे रहे खान पान पर नियंत्रण रखने की सलाह : गर्मी जनित बीमारियों से बचाव के लिए बीएमओ डॉ. एसबी कुलकर्णी अस्पताल में मरीजों को खुले पेय व खाद पदार्थों का सेवन नहीं करने धूप में सिर ढांककर निकलने, धूप से आकर एकदम पानी नहीं पीने, हल्का फुल्का खाना उपयोग करने बासी खाना उपयोग नहीं करने के साथ ही शीतल पेय पदार्थों एवं सलात का उपयोग करने की सलाह दे रहे हैं।

अस्पताल में बढ़ रही मरीजों की संख्या।