• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Begumganj
  • तुम्हें जो करना है कर लो अब तुम्हारा सीमांकन नहीं होगा
--Advertisement--

तुम्हें जो करना है कर लो अब तुम्हारा सीमांकन नहीं होगा

तहसील के दर्जनों किसान अपनी भूमि के सीमांकन कराने के लिए कई महीनों से तहसील कार्यालय के चक्कर लगा रहे है। लेकिन...

Danik Bhaskar | Jun 06, 2018, 05:10 AM IST
तहसील के दर्जनों किसान अपनी भूमि के सीमांकन कराने के लिए कई महीनों से तहसील कार्यालय के चक्कर लगा रहे है। लेकिन किसानों की भूमि के सीमांकन नहीं होने से किसानों में काफी आक्रोश व्याप्त है। किसान राजकुमार राय अपनी भूमि के सीमांकन के लिए एक साल से तहसील के चक्कर लगा रहा है। सीमांकन नहीं होने से किसान को उसकी भूमि पर कब्जा नहीं मिल पा रहा है। जबकि तहसीलदार कई बार सीमांकन के लिए आरआई को लिख चुके हैं और कई बार मौखिक बोलने के बाद भी आरआई प्रशांत किसान को पेशी पर पेशी दे रहा है। जिससे परेशान होकर किसान द्वारा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन से लेकर लोनिवि मंत्री और जिला कलेक्टर और एसडीएम की जनसुनवाई में लिखित में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत के बाद आरआई प्रशांत कोरी द्वारा किसानों धमकाया और यहां तक कह दिया कि तुम्हें जो करना है कर लो अब तुम्हारा सीमांकन नहीं होगा।

शासकीय भूमि पर हेराफेरी के आरोप : तहसील कार्यालय में पदस्थ आरआई प्रशांत कोरी पर कई संगीन आरोप लगे हैं। इससे पहले आरआई ने कॉलोनाइजर से हमलकर श्मशान घाट की बेशकीमती भूमि का चुपचाप सीमांकन कर श्मशान घाट की भूमि निकालकर कॉलोनाइजर के करोड़ों का फायदा पहुंचाया। जबकि श्मशान घाट की भूमि का सीमांकन करने से पूर्व हिन्दू उत्सव समिति को सूचना देना भी उचित नहीं समझा। जिसके चलते आज भी श्मशान घाट की भूमि का मामला उलझा हुआ है।

बिना पैसा दिया नहीं होता सीमांकन : तहसील के कई किसान आए दिन पटवारियों और आरआई की शिकायतें दर्ज कराते रहते है। वही किसान मनोज राय का कहना है कि हम पैसे नहीं दे सकते इसलिए हमारा सीमांकन नही किया जा रहा है जबकि जो लोग पैसे दे रहे हैं उनका सीमांकन बगैर समय किया जा रहा है।